अध्‍ययन का दावा : कोवैक्‍सीन की अपेक्षा कोविशील्‍ड से ज्‍यादा बनी एंटीबॉडी

अध्‍ययन का दावा : कोवैक्‍सीन की अपेक्षा कोविशील्‍ड से ज्‍यादा बनी एंटीबॉडी

नई दिल्ली।
स्पेशल डेस्क
तहलका 24×7
         कोवैक्सीन की तुलना में कोविशील्ड टीके से ज्यादा एंटीबॉडी बनती है, हालांकि दोनों टीके प्रतिरक्षा को मजबूत करने में बेहतर हैं। यह दावा एक अध्‍ययन में किया गया है। इस अध्ययन में 13 राज्यों के 22 शहरों के 515 स्वास्थ्य कर्मियों को शामिल किया गया।
इनमें 305 पुरुष और 210 महिलाएं थीं। यह अध्ययन अभी प्रकाशित नहीं हुआ है और इसे ‘मेडआरएक्सिव’ पर छपने से पहले पोस्ट किया गया है। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के कोविशील्ड टीके का निर्माण कर रही है, वहीं हैदराबाद स्थित कंपनी भारत बायोटेक, भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) और राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (एनआईवी) के साथ तालमेल से कोवैक्सीन का निर्माण कर रही है।

अध्ययन में शामिल होने वालों के खून के नमूनों में एंटीबॉडी और इसके स्तर की जांच की गयी। अध्ययन के अग्रणी लेखक और जीडी हॉस्पिटल एंड डायबिटिक इंस्टीट्यूट, कोलकाता में कंसल्टेंट एंडोक्राइनोलॉजिस्ट (मधुमेह रोग विशेषज्ञ) अवधेश कुमार सिंह ने ट्वीट किया, ‘‘दोनों खुराक लिए जाने के बाद दोनों टीकों ने प्रतिरक्षा को मजबूत करने का काम किया हालांकि, कोवैक्सीन की तुलना में सीरो पॉजिटिविटी दर और एंटीबॉडी स्तर कोविशील्ड में ज्यादा रहा.’’ कोवैक्सीन की खुराकें लेने वालों की तुलना में कोविशील्ड लेने वाले ज्यादातर लोगों में सीरो पॉजिटिविटी दर अधिक थी।
Previous articleवाराणसी : बुलेट पर नंबर की जगह लिखा था “आई त लिखाई”
Next articleपूरा यूपी हुआ अनलाॅक.. लखनऊ सहित सभी जिलों में अब खुलेंगी दुकानें व बाजार..
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏