आक्सीजन व इलाज के लिए गिड़गिड़ाते रह गए पत्रकार विनय श्रीवास्तव, हुई दर्दनाक मौत 

आक्सीजन व इलाज के लिए गिड़गिड़ाते रह गए पत्रकार विनय श्रीवास्तव, हुई दर्दनाक मौत 

# कोरोना से वरिष्ठ पत्रकार की मृत्यु से लखनऊ के मीडिया जगत में सन्नाटा

# अंतरराष्ट्रीय मीडिया में भी चर्चा, कई पत्रकारों की कोरोना से जा चुकी है जान

लखनऊ।
विजय आनंद वर्मा
तहलका 24×7
                       कोरोना के कहर ने लखनऊ के पत्रकार जगत से एक और पत्रकार को छीन लिया है। राजधानी के वरिष्ठ पत्रकार विनय श्रीवास्तव की इलाज और आक्सीजन के अभाव में तड़प-तड़प कर मृत्यु हो गई। लखनऊ की खराब स्वास्थ्य व्यवस्था एवं पत्रकार विनय श्रीवास्तव की दर्दनाक मृत्यु का मामला अंतरराष्ट्रीय मीडिया जगत में भी उछला है। शर्मनाक यह है कि पत्रकार विनय श्रीवास्तव मृत्यु से पूर्व तक लगातार ट्वीट कर इलाज एवं आक्सीजन के लिए गिड़गिड़ाते रहे, वे गिरते हुए आक्सीजन लेवल की जानकारी देते रहे, पर कहीं कोई सुनवाई नहीं हुई।

पत्रकार के परिजन बिस्तर के पास बिलखते रह गए

पत्रकार विनय श्रीवास्तव ने मृत्यु से पूर्व अपने आखिरी ट्वीट में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को संबोधित करते हुए लिखा कि आपके राज्य में डाक्टर, अस्पताल और सरकारी कर्मी सब निरंकुश हो गए हैं। मैं 65 की आयु का हूं संक्रमण की वजह से मेरा आक्सीजन घट के 52 हो गया है और कोई भी हास्पिटल, लैब एवं डाक्टर फोन नहीं उठा रहे हैं।

पत्रकार विनय श्रीवास्तव के परिजन उनके बिस्तर के पास बिलखते रह गए। बताते चलें कि उतर प्रदेश राज्य मुख्यालय मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति के नवनिर्वाचित कार्यकारिणी सदस्य प्रमोद श्रीवास्तव, टीवी पत्रकार रफीक, दैनिक जागरण के पत्रकार अंकित शुक्ला एवं वरिष्ठ पत्रकार हिमांशु जोशी की भी कोरोना से मृत्यु हो चुकी है तथा बड़ी संख्या में लखनऊ के मीडिया कर्मी कोरोना संक्रमित हैं। कोरोना की चुनौती के बीच मीडिया कर्मी जान को दांव पर लगाकर कवरेज कार्य में जुटे हुए हैं।

# पत्रकारों के परिजनों को 10 लाख की मदद दी जाए…

पत्रकार विनय श्रीवास्तव की मृत्यु से लखनऊ के मीडिया जगत को गहरा सदमा लगा है, पत्रकार जगत में एक बार फिर सन्नाटा छा गया है। लखनऊ जर्नलिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष आलोक कुमार त्रिपाठी, उपाध्यक्ष अभिषेक रंजन, रवि उपाध्याय, उमेश मिश्रा, मो. इनाम खान, महामंत्री विजय आनंद वर्मा, कोषाध्यक्ष संजय पांडेय, सदस्य जितेंद्र कुमार वर्मा एवं सुनील पांडेय ने विनय श्रीवास्तव के निधन पर गहरा दुःख व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री से मांग की है कि हाल ही कोरोना से जान गंवाने वाले सभी पत्रकारों के परिजनों को 10-10 लाख की आर्थिक सहायता प्रदान की जाए।
Apr 18, 2021

Previous articleजौनपुर : बगैर मास्क के घर से निकले तो खैर नहीं, देना होगा जुर्माना
Next articleबढ़ते कोरोना के बीच तेजी से मर रही है लोगों की मानवीय संवेदना…
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏