आजमगढ़ : डायरिया से मरने वालों की संख्या हुई पांच, आंकड़ा छुपाने में जुटा है प्रशासन

आजमगढ़ : डायरिया से मरने वालों की संख्या हुई पांच, आंकड़ा छुपाने में जुटा है प्रशासन

आजमगढ़।
फैज़ान अहमद
तहलका 24×7
               मुबारकपुर में डायरिया ने कहर ढाना शुरू कर दिया है। चौबीस घंटे में दो और लोगों की मौत के बाद पिछले तीन दिनों में डायरिया से मरने वालों की संख्या पांच हो गई है। हालांकि जिला प्रशासन मौत के आंकड़ों को छुपाने में ही अभी तक जुटा हुआ है। नए मरीजों के मिलने की रफ्तार धीमी जरूर हुई है लेकिन सीएचसी से रेफर किए कई मरीजों की हालत गंभीर बतायी जा रही है।
कस्बे के कटरा बलुआ और सरैया मुहल्लों में नगर पालिका प्रशासन द्वारा दूषित पानी की सप्लाई के चलते डायरिया का प्रकोप तीन-चार दिनों से फैला हुआ है। मंगलवार की शाम से अचानक इसमें तेजी आई और सीएचसी पर मरीज पहुंचने लगे। सीएचसी प्रशासन के आंकड़ों के अनुसार मुबारकपुर कस्बे में डायरिया प्रभावितों की संख्या चार सौ के पार पहुंच चुकी है। अभी भी नए मरीजों के मिलने का क्रम जारी है।

बुधवार की रात 28 वर्षीय भीम पुत्र शिववचन की अस्पताल ले जाते समय मौत हो गई। दो दिनों से वह भी डायरिया से प्रभावित था और घर पर ही उसका इलाज चल रहा था। रात दस बजे हालत गंभीर होने पर परिजन उसे सीएचसी ले जा रहे थे कि रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया। वहीं सीएचसी पर तीन सगी बहने भर्ती थीं, जिसमें 4 वर्षीया सादिया की बृहस्पतिवार की सुबह हालत गंभीर हुई, उसे जिला अस्पताल रेफर किया गया। जिला अस्पताल पहुंचने पर उसे मृत घोषित कर दिया गया। इसी तरह 40 वर्षीय बालचंद पुत्र झिल्लू भी दो दिनों से डायरिया से पीड़ित था और घर पर ही उसका भी इलाज चल रहा था। बुधवार की रात साढ़े ग्यारह बजे उसने भी दम तोड़ दिया। इसके पूर्व मंगलवार की रात चाचा-भतीजा ने घर पर ही इलाज के दौरान डायरिया से दम तोड़ चुके है।
मौत का आकड़ा लगातार बढ़ रहा है और प्रशासन चुप्पी साधे हुए है। अब तक डायरिया से एक भी मौत की पुष्टि जिला प्रशासन ने नहीं किया है। राजकीय मेडिकल कालेज व जिला अस्पताल में भर्ती कराए गए कुछ मरीजों को हॉयर सेंटर रेफर किए जाने की बात भी सामने आई लेकिन देर शाम तक इसकी पुष्टि नहीं हो सकी। पांच मौत के बाद पूरे कस्बे में हड़कंप मच गया है।

# चार सौ के पार पहुंची प्रभावितों की संख्या, ढाई सौ किए गए रेफर

 नगर पालिका मुबारकपुर क्षेत्र में फैली डायरिया को नियंत्रित करने की सारी कवायद फिलहाल फेल ही नजर आ रही है। बृहस्पतिवार की शाम छह बजे तक प्रभावितों की संख्या चार सौ के आंकड़े को पार कर चुकी थी। वहीं ढाई सौ से ज्यादा मरीज जिला अस्पताल व मेडिकल कालेज रेफर किए जा चुके थे। कस्बे में डायरिया को लेकर हड़कंप मचा हुआ है। हर कोई नगर पालिका प्रशासन को इसके लिए कोसता नजर आ रहा है। सीएचसी मुबारकपुर पर बृहस्पतिवार को डायरिया प्रभावितों के पहुंचने की रफ्तार में मामूली कमी देखने को मिली। सरकारी आंकड़ा भी अब तक प्रभावित हो चुके मरीजों की संख्या चार सौ के पार बता रही है। जबकि काफी संख्या में डायरिया पीड़ित घर पर रह कर अथवा प्राइवेट अस्पतालों से भी अपना इलाज करा रहे हैं।
सीएचसी से लगभग ढाई सौ डायरिया प्रभावितों को गंभीर स्थिति के चलते जिला अस्पताल व राजकीय मेडिकल कालेज भेज दिया गया है। वहीं लगभग 100 डायरिया के मरीज सीएचसी पर ही ठीक होने पर डिस्चार्ज कर घर भेज दिए गए हैं। इसके बाद भी लगभग पचास डायरिया पीड़ितों का सीएचसी पर अभी भी इलाज चल रहा है। डायरिया प्रभावित कटरा बलुआ व सरैया मोहल्ले ही नहीं बल्कि पूरे मुबारकपुर नगर क्षेत्र में हड़कंप की स्थिति है। सभी नगरपालिका प्रशासन को कोसते नजर आ रहे है। लोगों का कहना है कि यदि नपा प्रशासन पूर्व की गलती नहीं दोहराता तो शायद डायरिया का प्रकोप न फैला होता।

# अलर्ट मोड में है स्वास्थ्य महकमा

कस्बे के दो मुहल्लों में डायरिया के फैलने के बाद से ही स्वास्थ्य महकमा पूरी तरह से अलर्ट मोड में है। विभिन्न सीएचसी-पीएचसी के डॉक्टरों व कर्मियों की यहां ड्यूटी लगा दी गई है तो वहीं कस्बे में जगह-जगह एंबुलेंस भी इमरजेंसी के लिए खड़ा करा दिए गए है। इसके साथ ही महकमा क्लोरिन की गोली, ओआरएस के पैकेट व अन्य जरूरी दवाओं की किट घर-घर वितरित कर रहा है।
Previous articleघर में पत्थर फेंकने को लेकर दो पक्षों में जमकर चले लाठी-डंडे
Next articleजौनपुर : जाम के झाम से कराहता जौनपुर शहर, हलकान हैं जनपद वासी
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏