आजमगढ़ : सफाई कर्मी विहीन है पांच हजार की आबादी का गांव अम्बारी

आजमगढ़ : सफाई कर्मी विहीन है पांच हजार की आबादी का गांव अम्बारी

आजमगढ़।
फैज़ान अहमद
तहलका 24×7
                 जिम्मेदारों के गैर जिम्मेदाराना रवैए के चलते ग्राम पंचायत अंबारी सफाईकर्मी विहीन हो गया है। जिसके चलते गांव में साफ सफाई की व्यवस्था चौपट हो गयी है। चहुंओर फैली गंदगी संक्रामक रोगों को दावत दे रहे हैं। प्राथमिक विद्यालय अंबारी द्वितीय पर बड़े-बड़े घास फूस बच्चों के लिए खतरा बना हुआ है। शिकायतों के बाद भी जिम्मेदारों की नींद नहीं खुलने से ग्रामीणों का विभाग के प्रति रोष बढ़ता जा रहा है।
विकास खंड पवई की ग्राम पंचायत अंबारी बाजार एवं गांव की कुल आबादी लगभग पांच हजार है। गांव की साफ सफाई के लिए चार सफाईकर्मी की नियुक्ति विभाग द्वारा की गई थी। लेकिन काम के दबाव में अधिकारियों की मिलीभगत से तीन सफाईकर्मियों ने अपना ट्रांसफर करा लिया। ट्रांसफर के दौरान अधिकारियों ने यह भी नहीं देखा कि गांव में सफाई कार्य कैसे होगा। वर्तमान समय में अंबारी के राजस्व गांव शाहपुर में एक सफाईकर्मी की नियुक्ति है।
बड़ी और महत्वपूर्ण अंबारी ग्राम पंचायत में सफाईकर्मी न होने से गांव की साफ सफाई पूरी तरह से बेपटरी हो गई है। जबकि राजनैतिक दृष्टिकोण से अंबारी जिले में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। गांव की गलियों और नालियों समेत परिषदीय विद्यालय एवं सार्वजनिक स्थानों की सफाई नहीं हो पा रही है। जिसके चलते जगह जगह गंदगी का अंबार लगा हुआ है। बड़े बड़े घास फूस उग आए हैं, जहरीले जीव- जंतुओं का खतरा बना हुआ है। गांव की नालियां बजबजा रही हैं। संचारी रोग नियंत्रण की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। साफ सफाई न होने से संचारी रोग और मच्छरों के प्रकोप बढ़ गया है । जिससे ग्रामीणों में रोष व्याप्त है।
ग्रामीणों ने विभागीय अधिकारियों पर लेन-देन कर ट्रांसफर का आरोप लगाया है। अंबारी गांव के महफूज अहमद, लक्ष्मीकांत पांडेय, ईश्वरदेव मौर्या, सूरज पांडेय, चंकी पांडेय, मारुति उपाध्याय, लालमन बिंद, अजय राजभर, सुभाष पांडेय, अजय गुप्ता, नसीम अहमद आदि का कहना है कि अधिकारी अपने मनमाने ढ़ंग से लेन-देन कर सफाई कर्मियों को बेख़ौफ़ हटा देते है।
लोगों ने तत्काल सफाई कर्मी की व्यवस्था करने की मांग किया है। अगर सफाई कर्मी की तत्काल व्यवस्था नही होती है तो इसकी शिकायत मुख्यमंत्री करने की चेतावनी दी है। ग्राम प्रधान अमित जायसवाल ने बताया कि इसकी शिकायत विकास खंड के अधिकारियों से की गई है। गांव में जांच करने पहुंचे डीपीआरओ से भी सफाईकर्मी न होने की शिकायत की गई थी, लेकिन अभी तक सफाई कर्मी की व्यवस्था नहीं की गई। डीपीआरओ लाल जी दुबे का कहना है कि खंड विकास अधिकारी पवई से बातचीत हुई है, सफाई कर्मी की व्यवस्था की जा रही है।
Previous articleधोखाधड़ी व अपहरण में दो आरोपियों के घर कुर्की की नोटिस चस्पा
Next articleआजमगढ़ : डायरिया के 36 नए मरीज मिलने से आंकड़ा पहुंचा छह सौ के पार
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏