कच्छा- बनियान गिरोह के 15 बदमाश गिरफ्तार, लूट के जेवर, मोबाइल, वाहन बरामद

कच्छा- बनियान गिरोह के 15 बदमाश गिरफ्तार, लूट के जेवर, मोबाइल, वाहन बरामद

# 100 किमी पहले कर देते थे मोबाइल बंद, मुंह से निकालते थे पशु-पक्षियों की आवाज..

# जानिये किस तरह बड़ी लूट को शातिर लुटेरे देते थे अंजाम.. 

शाहजहांपुर।
स्पेशल डेस्क
तहलका 24×7
              जिले की पुलिस ने कच्छा-बनियान गिरोह के सरगना समेत 15 लुटेरों और उनके सहयोगियों को दबोचा है। लुटेरों ने गिरफ्त में आने के बाद कई ऐसी बातें बताई जिन्हें जानकर आप चौंक सकते हैं। घटना से पहले कैसे तैयारी करते थे। घटना के दौरान क्या क्या ध्यान रखा जाता था। घटना के बाद पुलिस से बचने के लिए क्या क्या किया जाता था। लुटेरों ने बताया कि जिस घर में घुसना होता था कुछ लोग घर के बाहर खड़े होकर निगरानी करते। एक व्यक्ति घर में घुसकर दरवाजा खोलता। सभी दबे पांव अंदर घुस जाते।

यदि घर वाले जाग जाते है तो मुंह से पशु-पक्षियों की अलग-अलग आवाज निकालकर भागने का इशारा करते। इस वजह से कोई पकड़ा नहीं जाता और सभी भाग जाते। जाग न होने पर घटना को अंजाम देते। माल को हिस्सा कर बांट लेते। एक हिस्सा काली मां के नाम से निकाल देते हैं। काली मां के हिस्से से सिमरा गौटिया के लटाधारी बाबा से पूजा पाठ कराते हैं और काली मां से आशीर्वाद लेकर अगली बड़ी चोरी करने के लिए निकल जाते।

# सीढ़ी व दीवार के रास्ते घर से घुसते

अभियुक्तों ने पूछताछ में बताया कि सभी एक साथ एकत्रित होकर अपनी गाड़ियों से आसपास के जनपद व अन्य राज्य बिहार, पंजाब, राजस्थान, उत्तराखण्ड, हरियाणा, दिल्ली, गोरखपुर, महाराजगंज में जाकर बाहरी किनारों पर स्थित अच्छे बने घरों को निशाना बनाते। सीढ़ी व दीवार के रास्ते घर में घुसकर घटना को अंजाम देते हैं।

# 100 किमी पहले मोबाइल कर लेते बंद

जहां घटना करनी होती है उसके करीब 100 किमी पहले ही सभी लोग अपने-अपने मोबाइल बंद कर लेते हैं। रात्रि में जिस जगह घटना करनी होती है। उससे कुछ दूर पहले गाड़ी रोककर अपने कपड़े, जूते, चप्पल उतारकर झाडियों में या फिर पेड़ पर टांग देते हैं। केवल नेकर-बनियान पहनकर ही घटना को अंजाम देते।

# गाड़ी मंगाने वाली जगह पर डाल देते लकड़ी

बदमाश अपनी गड़ियों को 10-15 किमी दूर होटल व ढाबे पर खड़ी करा देते हैं। ताकि किसी को शक न हो। सुबह तीन बजे का समय निर्धारित कर जहां मंगानी होती है, उसके लिए एक कोड का इस्तेमाल करते थे। वहां सड़क पर पहचान के लिए एक लकड़ी तोड़कर डाल देते हैं।

# एक लाख का इनाम देने की घोषणा

एसपी एस आनंद ने एसओजी प्रभारी रोहित सिंह, कटरा थाना प्रभारी प्रवीन सोलंकी, तिलहर थाना प्रभारी हरपाल सिंह बालियान, खुदागंज एसओ बकार अहमद, जैतीपुर एसओ प्रदीप सहरावत, गढ़िया रंगीन एसओ सुंदरलाल वर्मा व उनकी टीमों के साथ-साथ सर्विलांस टीम के संजीव व दुश्यंत को शाबाशी दी। पुरस्कार देने की घोषणा की। कहा कि आईजी ने एक लाख का पुरस्कार देने की घोषणा की है।

# बदमाशों ने छह माह में 256 बार ज्वैलर्स को किया कॉल

एसपी ने बताया कि बदमाशों ने छह माह में गढ़िया रंगीन के एक ज्वैलर्स को 256 बार काल की हैं। सभी बदमाश इसी ज्वैलर्स को चोरी का सामान बेचते थे। बताया कि घटना करने के बाद सभी बदमाश ज्वैलर्स को सूचित करते थे काम हो गया है माल देख जाओ तब ज्वैलर्स बताई जगह पर आकर माल देखता और उसका टेस्टिंग कराता और चोरी के सोने के माल को खरीदता। बताया कि तमाम समुदाय हैं, जो इसी पेशे में हैं। सबके अपराध के अपने-अपने तरीके हैं।

# होश संभालते ही करने लगे अपराध

पुलिस के मुताबिक, जलालाबाद के आरक्षी के पास फोन आया था। उसे फतेहगंज पूर्वी से कटरा होते हुए गैंग के जाने की सूचना दी। आरक्षियों ने एसओ को बताया। फिर वरिष्ट अधिकारियों को बताया गया।। एसपी ग्रामीण संजीव कुमार वाजपेयी व सीओ तिलहर परमानंद पांडेय ने टीम गठित की और सभी को दबोचा। बताया कि दो को छोड़ सभी पंखिया हैं। होश संभालते ही अपराध करने लगे।

# यह हुई बरामदगी

बदमाशों से 23450 रुपये बरामद किए। सात मोबाइल, एक बाइक, दो चौपहिया वाहन, दस तमंचे, बड़ी संख्या में कारतूर बरामद किए। साथ ही दो जोडी सोने के कड़े, सोने की चार चेन, सोने की 13 अंगूठी महिला व सात पुरुष की, सोने के 12 जोड़ी कुंडल, तीन जोड़ी बाली, तीन नथ, सोने के कुंडल, सोने के 14 जोड़ी झाले, दो जोड़ी झुमकी, सात मांग टीका, मंगलसूत्र के 26 लाकेट, दो हाथफूल, एक सोने की सिकड़ी, सात चांदी की सिकड़ी, दो चांदी की बेल्ट, चांदी के दो हाथफूल, 26 जोड़ी चांदी की पायल, 10 जोड़ी बिछवा, 18 चांदी के छोटे-बड़े सिक्के, चार चांदी के दीपक, पांच चांदी के पीपलनुमा पत्ते, एक चांदी की मछली, चांदी की गणेश-लक्ष्मी की मूर्ति, चांदी की एक बड़ी व पांच छोटी गुंबद, एक-एक चांदी की बड़ी व छोटी प्लेट बरामद की।

# बदमाशों का अपराधिक इतिहास

मिदरी पर चोरी, लूट, छिनैती के 21 मुकदमें दर्ज हैं। मिदरी ने मदनापुर के अलावा कटरा, निगोही, पुवायां, कलान, सदर बाजार, सीतापुर के महोली व पिसावा में भी घटना को अंजाम दिया। अतीक पर 18 मुकदमें दर्ज हैं। अतीक ने लखीमपुर खीरी के अलावा कन्नौज, कटरा, निगोही, पुवायां, कलान, सदर बाजार, सीतापुर में घटनाएं कीं। निसार पर 16 मुकदमें दर्ज हैं। निसार ने बरेली के फतेहगंज पूर्वी, कन्नौज जिले के थाना तिरुआ, कटरा, निगोही, पुवायां, सीतापुर में घटनाएं की। कन्नौज में जानलेवा हमला भी किया था। शान-ए-आलम व मुनीश कुमार उर्फ त्यागी पर पर 15-15 मुकदमें दर्ज हैं। आमिन, नाज मोहम्मद, सुखपाल व अजीज पर 14-14 मुकदमें दर्ज हैं। धर्मेंद्र गुप्ता, इकबाल व मिशरार पर 13-13 मुकदमें दर्ज हैं। अनीश पर 11 मुकदमें दर्ज हैं। वासुदेव व इरफान पर 12-12 मुकदमें दर्ज हैं।
Previous articleश्रीराम जन्मभूमि के नाम पर ठगी करने वाले 5 जालसाज छात्र गिरफ्तार
Next articleयोगी आदित्यनाथ के केशव मौर्य के घर जाने से क्या बदले समीकरण..?
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏