काजल के हत्यारों को पकड़ने पर 1लाख 11 हजार का ईनाम- दादा सुखदेव सिंह

काजल के हत्यारों को पकड़ने पर 1लाख 11 हजार का ईनाम- दादा सुखदेव सिंह

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
               जिस परिवार के साथ कभी दांत काटी रोटी का सम्बन्ध हुआ करता था उसी परिवार के लोगों ने दूसरे परिवार की आंखो की ज्योति बुझा दी उस बेचारी का कसूर सिर्फ इतना था कि वह अपने बाप की दबंगों द्वारा की जा रही पिटाई की वीडियो बना रही थी।मामला कुछ इस तरह था कि गोरखपुर जिले के गगहा थाना क्षेत्र के ग्राम जगदीशपुर भलुवान में बीते दिनों पिता की पिटाई का वीडियो बनाने वाली काजल जिसकी आयु लगभग वर्ष 17 थी, को गांव के बदमाश विजय प्रजापति ने पेट में गोली मार दी थी।जिसका 5 दिनों से चल रहे इलाज के दौरान केजीएमसी लखनऊ में मृत्यु हो गई।

डॉक्टरों ने अपनी पूरी कोशिश की कि काजल के पेट से गोली निकल जाए जिसके लिए उन्होंने उसका आपरेशन भी कर दिया मगर चिकित्सकों की सारी कोशिश असफल हो गयी और काजल ने बुधवार को अपनी अंतिम सास ली। बुधवार देर रात को काजल का शव उनके पैतृक निवास भलुवान पहुंचा।काजल की मौत की सूचना मिलतें ही गाँव में तनाव का वातावरण हो गयाजिसके मद्देनजर गाँव में सुरक्षा की दृष्टि से थाना गगहा समेत कई थानों की पुलिस गांव से लेकर चौराहे तक खड़ी रही। किसी तरह रात में ही शांतिपूर्ण तरीके से काजल का अंतिम संस्कार बड़हलगंज मुक्तिपथ पर संपन्न करा दिया गया।

उधर गगहा पुलिस ने घटना में काजल की मृत्यु हो जाने पर सम्बंधित मुकदमे में हत्या की धारा और बढ़ा दी गई है। एसएसपी ने अपराधी विजय एवं उसके साथी पर 25-25 हजार रूपये का इनाम घोषित करते हुए उनके सम्भावित छिपे होने के सम्भावित ठिकानों पर दबिश दी जा रही हैं।भलुवान निवासी राजीव नयन सिंह बांसगांव दिवानी न्यायालय में चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी हैं। शादी के काफी समय तक राजीव नयन को कोई संतान नहीं हुई थी, जिसके लिए उन्होंने तमाम तरह के पूजापाठ किये तब कही जा कर उनके ऊपर ईश्वर की कृपा दृष्टि हुई और काजल का जन्म हुआ। काजल के जन्म से परिवार में खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा।

इकलौती संतान होने के कारण राजीव नयन सिंह उसके लालन पालन में किसी तरह की कोताही नहीं बरते थे, काजल पढ़ने लिखने के साथ खेलकूद में भी अच्छी रूचि लेती थी। हत्यारोपित के परिवार से भी राजीव नयन सिंह से काफी भाईचारा था जिस कारण उनमें बहुत पटती थी। आए दिन आवश्यकता पड़ने पर राजीव नयन सिंह उनकी मदद भी करते रहते थे, विजय प्रजापति की बहन की शादी में भी राजीव नयन सिंह ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया था और अपनी सामर्थ्य के अनुसार उसकी मदद भी की थी। पुलिस ने विजय प्रजापति एवं उसके साथियों को पकड़ने के लिए विजय के जमानतदार व करिबियों को हिरासत में ले लिया है।
साथ ही विजय की पत्नी, बहन और ससुराल पक्ष के लोगों से भी पुलिस पूछताछ कर रही है। हालांकि इस घटना के बाद से विजय के मां-बाप फरार हैं। पुलिस विजय के संभावित ठिकानों पर दबिश दे रही है, तो वहीं दूसरी तरफ इस घटना से आक्रोशित राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष दादा सुखदेव सिंह गोगामेडी ने हत्यारों को पकड़ने वाले पुलिसकर्मियों को 1 लाख 11000 रूपये इनाम देने की घोषणा की है। इस बात की जानकारी प्रदेश अध्यक्ष राकेश कुमार सिंह व जौनपुर जिला के अध्यक्ष ठाकुर सुजीत कुमार सिंह द्वारा दी गई।
Previous articleधूमधाम से मनाया गया भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव, भक्तों को वितरित किया गया प्रसाद
Next articleजौनपुर : विद्यालय पहुंचे बच्चों का पुष्पवर्षा एंव रोली-चंदन से किया गया स्वागत
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏