कानपुर में चार फैक्ट्रियाें और गोदाम में भीषण आग

कानपुर में चार फैक्ट्रियाें और गोदाम में भीषण आग

# केमिकल ड्रम के फटने के धमाके से रही दहशत, 10 दमकल आग पर काबू पाने के लिए जुटे

लखनऊ/कानपुर।
विजय आनंद वर्मा
तहलका 24×7
                 कानपुर के गोविंद नगर क्षेत्र अंतर्गत दादा नगर इंडस्ट्रियल एरिया में बुधवार की आधी रात जूते का पीवीसी सोल का दाना बनाने वाली फैक्ट्री से भड़की आग से कोयला गोदाम, प्रिटिंग फैक्ट्री और केमिकल गोदाम भी पूरी तरह जल गया। तेज धमाकों के साथ केमिकल ड्रम फटने से लोगों में दहशत बनी रही। फैक्ट्री में फंसे चौकीदार के परिवार को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया। फजलगंज समेत अन्य फायर स्टेशनों से पहुंची दमकल की दस गाड़ियां आग बुझाने में रात से सुबह तक जुटी रही। सुबह तक केमिकल और कोयला गोदाम में आग सुलगती रही और काबू नहीं पाया जा सका था।

स्वरूप नगर निवासी उमंग जैन और गौतम खेमका की दादा नगर में जूते के पीवीसी सोल का दाना बनाने की फैक्ट्री है। बुधवार देर रात करीब 2.30 बजे फैक्ट्री में शार्ट सर्किट होने से आग लग गई। आग की तेज लपटे केमिकल तक पहुंच गईं। तेज हवा चलने से केमिकल में लगी आग ने विकराल रूप ले लिया। देखते ही देखते ही आग ने पड़ोस की साधना इंटरप्राइजेज के कोयला गोदाम को भी चपेट में लिया। हवा चलने से केमिकल और कोयले की आग तेजी से भड़कती गई।

इस बीच आग ने पास ही शास्त्री नगर निवासी सुमित अग्रवाल के केमिकल गोदाम और उनकी पत्नी रीतिका अग्रवाल की प्रिटिंग फैक्ट्री को भी चपेट में ले लिया। केमिकल गोदाम में ज्वलशील एथाइल और रैपर फैक्ट्री के प्लास्टिक के रोल होने से आग और भड़क गई। दो गोदाम और दो फैक्ट्रियों की विकराल आग से आसपास क्षेत्र में दहशत फैल गई। सूचना पर फायर स्टेशन से दमकल गाड़ियां भी पहुंचने लगीं।

मैनेजर विनोद कुमार यादव ने बताया कि गोदाम में केमिकल के करीब दो सौ ड्रम रखे थे। दमकल जवानों की मदद से करीब 35 ड्रम ही बाहर निकाले जा सके और जो अंदर रह गए वह लगातार तेज धमाकों के साथ फट रहे हैं। केमिकल ड्रम फटने से आसपास की फैक्ट्रियों में दहशत बनी रही। फजलगंज फायर स्टेशन से चार व लाटूशरोड, कर्नलगंज, मीरपुर समेत अन्य फायर स्टेशनों से दमकल की करीब दस गाड़ियां पहुंची और आग बुझाने के प्रयास शुरू किए।

गोविंद नगर थाने का फोर्स और एसीएम प्रथम आरपी वर्मा भी घटनास्थल पहुंचे। केमिकल जलने से दम घोंटू काला धुआ होने से आग बुझाने में दमकल जवानों को खासा परेशानी का सामना करना पड़ा। सुबह केमिकल गोदाम और कोयला गोदाम की आग पर काबू नहीं पाया जा सका था। फजलगंज फायर स्टेशन के कार्रवाहक अग्निशमन अधिकारी विनोद कुमार पांडेय ने बताया कि शार्ट सर्किट से आग लगने की जानकारी हुई है। फिलहाल नुकसान का आंकलन नहीं किया जा सका है, घटना में कोई जनहानि नहीं हुई है।

# तेज धमाके में ढही दीवार

केमिकल गोदाम में हुए जबरदस्त धमाकों से मुख्य टिनशेड गिर गया। वहीं गोदाम की बाउड्रीवॉल भी भरभराकर ढह गई। इधर दाना फैक्ट्री का भी टिनशेड गिरा। जबकि शेड की दीवारे भी गिराऊ हालत में पहुंच गई।

# दहशत में फंसा रहा चौकीदार परिवार

केमिकल गोदाम से सटी हुई रेलवे के पार्ट्स बनाने की फैक्ट्री है। यहां पर चौकीदार मनोज अपने परिवार के साथ रहता है। हादसे के वक्त जब केमिकल गोदाम में आग पहुंची तो लपटों की भयावहता इतनी थी कि मनोज, उसकी पत्नी प्रिया, बेटी अनुष्का और बेटे निर्मित के साथ अंदर ही फंस गया। जानकारी होने पर दमकल कर्मियों ने उसे और परिवार के सदस्यों को बाहर निकाला।
Previous articleकोरोना के शक में दो दिन तक पड़ी रही लाश, अपनों ने नहीं दिया कंधा तो बीडीओ ने सजाई चिता
Next articleकोरोना से मौत की आशंका पर रोका अंत‍िम संंस्‍कार
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏