छत्तीसगढ़ पुलिस का नया कारनामा : शराब तस्करों को जेल जाने से बचाने के लिए दिखाई कोरोना पॉजिटिव की फर्जी रिपोर्ट

छत्तीसगढ़ पुलिस का नया कारनामा : शराब तस्करों को जेल जाने से बचाने के लिए दिखाई कोरोना पॉजिटिव की फर्जी रिपोर्ट

# कोविड सेंटर में खुला मामला, दो आरोपी कांस्टेबल सस्पेंड

नई दिल्ली।
स्पेशल डेस्क
तहलका 24×7
               छत्तीसगढ़ पुलिस के सिपाहियों का नया कारनामा सामने आया है। पहले तो शराब तस्करों को पकड़ा फिर उन्हें जेल जाने से बचाने के लिए कोरोना पॉजिटिव होने की फर्जी रिपोर्ट पेश कर दी। कोर्ट ने आरोपियों को कोविड सेंटर भेजने का आदेश दिया तो मामले का खुलासा हुआ। इसके बाद दोनों सिपाहियों को सस्पेंड कर दिया गया है। वहीं इसमें सहयोगी बने नगर सैनिक मनोज निर्मलकर और टेस्ट सेंटर के कंप्यूटर ऑपरेटर हरजीत सिंह राठौर के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

दरअसल, यह सारा मामला कोरबा जिले का है। शहर के मानिकपुर चौकी पुलिस ने शुक्रवार को 47 लीटर महुआ शराब के साथ दो आरोपियों लहुरा यादव और मुकेश सोनी को पकड़ा था। दोनों को लेकर सिपाही दीपनारायण त्रिपाठी व योगेश सिंह कोर्ट पहुंचे। वहां आरोपियों के साथ उनकी कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट भी पेश की। शराब ज्यादा थी तो कोर्ट ने आरोपियों को जेल वारंट जारी कर दिया, पर संक्रमित होने से पहले कोविड सेंटर भेजने के आदेश दे दिए।

# आरोपियों और उनके परिजनों ने हंगामा किया, तो खुला मामला

कोर्ट के आदेश पर दोनों आरोपियों को कोविड सेंटर ले जाया जाने लगा तो वे हड़बड़ा गए। उन्होंने हंगामा कर दिया और अपने परिजनों को सूचना दी। वे भी पहुंच गए। इसके बाद दोनों सिपाहियों की करतूत का पता चला। इसके बाद एसपी अभिषेक मीणा ने दोनों सिपाहियों को रविवार को सस्पेंड कर दिया है। वहीं मामले की जांच CSP कोरबा योगेश साहू को सौंप दी है। उन्हें 7 दिन में प्राथमिक रिपोर्ट पेश करने के आदेश दिए हैं।

# आरोप सही मिले तो सिपाहियों पर दर्ज होगी FIR, दीपनारायण हैं चर्चित

आरोपी सिपाहियों में दीपनारायण त्रिपाठी चर्चित है। उसके खिलाफ पहले भी कई शिकायतें हो चुकी हैं। उसका ट्रांसफर रामपुर चौकी से लेमरू किया गया था। वहां से कुछ माह बाद जुगाड़ कर फिर शहर आ गया। एडिशनल एसपी कीर्तन राठौर के मुताबिक, प्रथम दृष्टया आरोपियों के कोविड टेस्ट में निगेटिव आने के बाद पता चला है कि सिपाहियों ने उनकी फर्जी रिपोर्ट तैयार करवाई थी। आरोप सही मिले तो दोनों सिपाहियों पर FIR दर्ज की जाएगी।

# प्रशासन ने भी एसडीएम को सौंपी जांच, पर 24 घंटे बाद भी कार्रवाई नहीं

दूसरी ओर सरकारी अस्पताल के टेस्ट सेंटर से फर्जी रिपोर्ट जारी करने के मामले में कलेक्टर किरण कौशल ने भी जांच बिठाई है। इसकी जिम्मेदारी एसडीएम कोरबा सुनील नायक को दी गई है। निर्देश में कहा गया है कि फर्जी रिपोर्ट तैयार करने वाले कर्मचारी और अधिकारियों की जानकारी जुटाई जाए। साथ ही यह भी पता लगाया जाए कि पुलिस विभाग और अन्य कितने लोगों को इस तरह की फर्जी रिपोर्ट जारी की गई है। हालांकि अभी तक इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

# जांजगीर में आरोपी को जेल भेजने की बजाय छोड़ दिया था

इससे पहले जांजगीर में भी मार्च माह में ऐसा ही कुछ मामला सामने आया था। शांतिभंग में जिस आरोपी को कोर्ट ने जेल भेजने का आदेश दिया था, सिपाहियों ने उसे छोड़ दिया। सिपाहियों ने कहा था कि उन्हें लगा कि कोर्ट ने छोड़ने का आदेश दिया है। फिलहाल दोनों सिपाहियों को एसपी ने लाइन अटैच कर दिया था और मामले की जांच के आदेश दे दिए गए थे।
Previous articleअयोध्‍या के धन्नीपुर में होगा मस्जिद का निर्माण
Next articleशर्मनाक : मेरठ मेडिकल में मरीज की मौत होते ही उतार लेते हैं जेवर, मांगों तो मिलते हैं सोने के बदले पीतल
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏