जन सामान्य को मदद पहुंचाकर यूपी पुलिस ने पेश की मानव सेवा की मिशाल- मुकुल गोयल

जन सामान्य को मदद पहुंचाकर यूपी पुलिस ने पेश की मानव सेवा की मिशाल- मुकुल गोयल

# पंद्रह अगस्त पर ध्वाजारोहण कर डीजीपी ने सम्मानित होने वाले पुलिसकर्मियों को दी बधाई

लखनऊ।
विजय आनंद वर्मा
तहलका 24×7
          स्वतन्त्रता दिवस के अवसर पर पुलिस महानिदेशक मुकुल गोयल द्वारा कोविड-19 के दृष्टिगत निर्गत गाइडलाइंस का अनुपालन करते हुए गोमतीनगर विस्तार स्थित पुलिस मुख्यालय के प्रांगण में राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया। इसके उपरान्त पुलिस महानिदेशक द्वारा लखनऊ स्थित पुलिस इकाईयों के 8 अराजपत्रित पुलिसकर्मियों को उत्कृष्ट सेवा सम्मान चिन्ह, सराहनीय सेवा सम्मान चिन्ह एवं पुलिस महानिदेशक के प्रशंसा चिन्ह प्राप्त करने वाले कार्मिकों को अलंकृत किया गया।

पुलिस महानिदेशक ने अपने संबोधन में कहा कि आज देश के 75वें स्वतंत्रता दिवस पर मैं आप सबको एवं प्रदेश के सभी पुलिसजनों को हार्दिक बधाई देता हूँँ। इस अवसर पर 9 पुलिस कार्मिकों को वीरता के लिये पुलिस पदक, 4 पुलिस कार्मिकों को विशिष्ट सेवा के लिये राष्ट्रपति का पुलिस पदक, 73 पुलिस कार्मिकों को सराहनीय सेवा के लिये पुलिस पदक, 952 पुलिस कार्मिकों को अति उत्कृष्ट सेवा पदक, 764 पुलिस कार्मिकों को उत्कृष्ट सेवा पदक, 5 पुलिस कार्मिकों को मुख्यमंत्री उत्कृष्ट सेवा पुलिस पदक, 45 पुलिस कार्मिकों को उत्कृष्ट सेवा सम्मान चिन्ह, 202 पुलिस कार्मिकों को सराहनीय सेवा सम्मान चिन्ह, 286 पुलिस कार्मिकों को पुलिस महानिदेशक का प्रशंसा चिन्ह-हीरक, 114 पुलिस कार्मिकों को पुलिस महानिदेशक का प्रशंसा चिन्ह-स्वर्ण एवं 42 पुलिस कार्मिकों को पुलिस महानिदेशक का प्रशंसा चिन्ह-रजत प्रदान किये गये हैं, इन सभी कार्मिकों को मेरी ओर से हार्दिक बधाई।
उन्होने अपने संबोधन में कहा कि 15 अगस्त 1947 भारतीय इतिहास का भाग्यशाली और अति महत्वपूर्ण दिन था। आज ही के दिन हमारा राष्ट्र ब्रिटिश शासन से मुक्त हुआ और एक स्वतंत्र राष्ट्र बना। यह दिन आजादी के लिये अपना बलिदान देने वाले स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को याद करने का दिन है। आज का दिन हमें राष्ट्र गौरव एवं आत्माभिमान की अनुभूति कराता है। स्वतंत्रता एक उपहार है, जो महान स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा किये गये बलिदान, त्याग व संघर्ष से प्राप्त हुआ हैै। आज हमारे देश की पहचान एक शक्तिशाली व प्रगतिशील राष्ट्र के रूप में है। यह राष्ट्रीय पर्व हमारे हृदय में नवीन स्फूर्ती, नवीन आशा, उत्साह तथा देशभक्ति का संचार करता है। आज के पावन अवसर पर राष्ट्र की स्वतंत्रता और सार्वभौमिकता की रक्षा का हम सब प्रण लेते हैं।

# बाढ़ पीड़ितों की मदद में जी-जान से जुटी है पुलिस..

डीजीपी मुकुल गोयल ने कहा कि जहां एक ओर हमारे जवान कोरोना वारियर्स के रूप में कार्य कर रहे हैं, वहीं प्रदेश के बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में एनडीआरएफ एवं पुलिस के जवानों द्वारा बाढ़ पीड़ितों की मदद की जा रही है। वर्तमान समय में अपराध की प्रकृति बदल रही है। अपराध नियंत्रण अब अधिक चुनौतीपूर्ण है। इसके दृष्टिगत प्रदेश की राजधानी लखनऊ में यूपी‌ स्टेट इंस्टीट्यूट आफ फाॅरेंसिक साइंसेज का शिलान्यास गृहमंत्री अमित शाह द्वारा मुख्यमंत्री की उपस्थिति में विगत दिवस कराया गया। यह संस्थान नेशनल फाॅरेसिंक साइंसेज यूनिवर्सिटी से सम्बद्ध होगा।‌ साइबर अपराध एक बड़ी चुनौती है। अपराधों से प्रभावी ढंग से निपटने के लिये लखनऊ व गौतमबुद्धनगर के अलावा 16 परिक्षेत्रीय मुख्यालयों पर साइबर क्राइम थानों की स्थापना की गयी है।

# प्रदेश में “मिशन शक्ति” अभियान की शुरुआत...

महिला सशक्तीकरण के दौर में बदायूं, लखनऊ व गोरखपुर में महिला पीएसी बटालियन के गठन का निर्णय लिया गया है। महिला अपराध की रोकथाम एवं जागरूकता हेतु प्रदेश में ‘‘मिशन शक्ति‘‘ अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान से महिलाओं एवं बालिकाओं में सुरक्षा की भावना प्रबल हुई। ‘‘मिशन शक्ति‘‘ की सफलता के दृष्टिगत आगे भी यह अभियान चलाये जाने का निर्णय लिया गया है। इसके अन्तर्गत प्रत्येक थाने पर “महिला हेल्प डेस्क” की स्थापना की गयी तथा पिंक बूथ बनाये गये एवं पिंक पेट्रोल कार/स्कूटर क्रियाशील की गयी हैं।

# माफियाओं की 18 सौ करोड़ की अवैध संपत्ति जब्त..

पुलिस महानिदेशक ने कहा कि प्रदेश में कानून-व्यवस्था सुदृढ़ बनी हुयी है। प्रदेश के चिन्हित माफिया अपराधियों एवं उनके गैंग के सहयोगियों के विरूद्ध विशेष अभियान चलाकर कार्यवाही की गयी है। इस दौरान सम्पूर्ण उत्तर प्रदेश में गैंगेस्टर अधिनियम 14 (1) के अन्तर्गत आपराधिक कृत्य से अर्जित की गयी लगभग 1800 करोड़ रूपये से अधिक की चल/अचल अवैध सम्पत्तियों पर शिकंजा कसते हुए सरकारी जमीन अवमुक्त कराने, अवैध कब्जे के ध्वस्तीकरण एवं जब्ती करण की कार्यवाही की गयी है।

# सोशल मीडिया के जरिये जनता से सीधा संवाद…

आम जनता और पुलिस के बीच अनवरत सम्पर्क व संवाद बना रहे, यह प्रयास प्रत्येक स्तर पर होना चाहिये।
उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव-2021 चार चरणों में निष्पक्ष, स्वतंत्र एवं शांति पूर्ण पुलिस प्रबन्ध एवं कार्यवाही से सकुशल सम्पन्न हुये। उ.प्र. पुलिस के लिये निकट समय में आने वाले त्यौहार एवं आगामी विधान सभा चुनाव एक बड़ी चुनौती है, इसके दृष्टिगत शान्ति-व्यवस्था एवं अपराध नियंत्रण हमारे लिये अत्यन्त ही महत्वपूर्ण हो जाते हैं। पुलिस का कार्य अत्यन्त ही चुनौतीपूर्ण एवं कठिन है। समाज की अपेक्षायें भी हमसे प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। समाज के साथ कंधे से कंधा मिलाकर उनकी अपेक्षाओं पर हमें और अधिक खरा उतरना है। उत्तर प्रदेश पुलिस को पारम्परिक पुलिस की रीतियों के साथ-साथ और अधिक व्यवस्थित, प्रशिक्षित, संवेदनशील एवं तकनीकी दृष्टि से सक्षम बनाना है।

# हमें जनता से और अच्छा व्यवहार करना होगा…

डीजीपी ने कहा कि हमें जनता से और अच्छा व्यवहार करना होगा एवं प्रदेश सरकार की “भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टाॅलरेंस की नीति” का भी लगातार पालन कराना होगा। उत्तर प्रदेश पुलिस में सभी चुनौतियों का सफलतापूर्वक सामना करने की शक्तियां मौजूद है। हम सब उन शक्तियों को जागृत कर उत्तर प्रदेश सरकार की कानून-व्यवस्था संबंधी सभी प्राथमिकताओं को पूर्ण करेंगे तथा हमारी गौरवशाली परम्पराओं को आगे बढ़ाते हुये नये कीर्तिमान स्थापित करेंगे।
Previous articleजौनपुर : केमिस्ट्स एंड ड्रगिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन ने धूमधाम से मनाया स्वतंत्रता दिवस
Next articleभाजपा स्थानीय निकाय प्रकोष्ठ में भारत विकास परिषद को मिली तरजीह
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏