जौनपुर : अधिवक्ता ने फांसी लगाकर की खुदकुशी, मौके पर मिला सुसाइड नोट

जौनपुर : अधिवक्ता ने फांसी लगाकर की खुदकुशी, मौके पर मिला सुसाइड नोट

खेतासराय।
अज़ीम सिद्दीकी
तहलका 24×7
              स्थानीय थाना क्षेत्र के अब्बोपुर गांव में एक अधिवक्ता ने पत्नी से विवाद के चलते शुक्रवार की सुबह कमरे में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। दरवाजा न खुलने पर पड़ोस के एक व्यक्ति की मदद से दरवाजा तोड़कर शव को नीचे उतारा गया। मौके पर एक सुसाइड नोट पड़ा मिला। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

गांव के 30 वर्षीय संतोष कुमार बिंद पुत्र बंशूराम बिंद जौनपुर दीवानी न्यायालय में अधिवक्ता थे। उनकी पत्नी प्राथमिक विद्यालय बरंगी में सहायक अध्यापिका हैं। दोनों की शादी के पांच साल बाद भी उन्हें कोई औलाद नहीं है। चर्चा है कि घटना से एक दिन पूर्व गुरुवार को मृतक अधिवक्ता के साले और ससुर उसके घर पर आए थे। किसी बात को लेकर अधिवक्ता और उसके साले के बीच काफी बहसबाजी हुई थी। घर पर मृतक अधिवक्ता संतोष की मां और पिता थे।
बात इतनी बढ़ गई कि संतोष कुमार के ससुर अपनी बेटी को साथ लेकर मायके चले गए। घटना से रोती बिलखती मृतक की मां और ग्रामीणों की मानें तो शुक्रवार की सुबह संतोष बिस्तर से उठकर बाहर टहलकर वापस लौटा। इस बीच अपनी मोबाइल पर किसी से लगातार बात करता रहा। बात करते वह घर के दूसरी मंजिल पर अपने कमरे में चला गया। उसकी मां चाय लेकर जब कमरे के बाहर पहुंची तो कमरा अंदर से बंद मिला। कई आवाज लगाने पर कमरा अंदर से नहीं खुला तो बगल में एक मोबाइल टावर पर रहे कर्मचारी को बुलाया।
दरवाजा तोड़ा गया तो स्टूल के सहारे साड़ी के फंदे से संतोष का शव लटकता मिला। इकलौते बेटे का शव देख उसकी मां दहाड़े मारकर चीखने चिल्लाने लगी। टावर के कर्मचारी की मदद से शव को नीचे उतारा गया। मौके से एक सुसाइड नोट मिला। जिसे पुलिस अपने कब्जे में ले लिया। सुसाइड नोट में मृतक ने अपनी मौत का जिम्मेदार अपनी पत्नी के दो भाइयों को ठहराया है। पुलिस मामले की जांच पड़ताल कर रही है। प्रभारी निरीक्षक राजेश यादव ने बताया कि अभी कोई तहरीर नहीं मिली है। सुसाइड नोट का मामला जांच का विषय है।
Previous articleजौनपुर : अधिवक्ता के गिरफ्तारी की मांग को लेकर तहसील कर्मियों का धरना
Next articleजौनपुर : प्रधान ने जर्जर तार बदलवाने के लिए राज्यमंत्री से किया मांग
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏