जौनपुर : अधिशासी अभियंता की लापरवाही का खामियाजा भुगत रहे हैं संविदाकर्मी

जौनपुर : अधिशासी अभियंता की लापरवाही का खामियाजा भुगत रहे हैं संविदाकर्मी

# छह माह से वेतन न मिलने से संविदाकर्मियों के भूखे मरने की नौबत

# 213 संविदाकर्मी का गत 6 माह से रूका है वेतन, “दाम नहीं तो काम नहीं” का लगा नारा

शाहगंज।
रवि शंकर वर्मा
तहलका 24×7
                   अधिशासी अभियंता की घोर लापरवाही का खामियाजा 213 संविदाकर्मी भुगत रहे हैं जिसका परिणाम यह है कि अब संविदाकर्मियों के भूखे मरने की नौबत आ गयी है। गत दिसंबर 2020 से वेतन नहीं मिलने पर संविदाकर्मियों में आक्रोश व्याप्त है। आक्रोशित संविदाकर्मियों ने बुधवार को डिहवा भादी स्थित अधिशासी अभियंता कार्यालय पर “दाम नहीं तो काम नहीं” का नारा लगाते हुए धरना-प्रदर्शन किया।
संविदाकर्मी ही विद्युत विभाग की रीढ़ कहे जाते हैं और विद्युत आपूर्ति, मरम्मत, बकाया वसूली समेत तमाम कार्य पूर्ण रूप से इन्हीं के कन्धों पर है और इनके साथ सौतेला व्यवहार विद्युत विभाग के उच्च पदासीन अधिकारियों की नीति और नीयत सवालिया निशान खड़ा कर रहा है। संविदाकर्मी प्रायः समय से वेतन भुगतान न होने के साथ-साथ तमाम सहुलियत से भी मरहूम रहते हैं लिहाजा अब आक्रोश बढ़ता जा रहा है।
बुधवार को संविदाकर्मियों के पूर्वांचल अध्यक्ष संजय सिंह, पूर्वांचल महामंत्री आशीष कुमार पाण्डेय एंव जिलाध्यक्ष संजय मौर्या के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मंडल ने अधिशासी अभियंता रामनरेश से मुलाकात की। प्रतिनिधि मंडल ने संविदाकर्मियों की समस्या का जल्द से जल्द निदान करने की अपील करते चेतावनी दिया है कि यदि 12 अक्टूबर तक संविदाकर्मियों के समस्या का समाधान नहीं किया गया तो समस्त संविदाकर्मी पूर्ण रूप से कार्य बहिष्कार को बाध्य होगा जिससे आगामी त्योहार फीका पड़ने की आशंका है।
Previous articleजौनपुर : पुलिस मुठभेड़ में अंतरराज्यीय बदमाश घायल, सिपाही को भी लगी गोली
Next articleजौनपुर : दो और कच्चे मकान ढहे, खुले आसमान के नीचे आये परिवार
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏