जौनपुर : अनुलोम विलोम, कपालभाति के साथ-साथ पेट के बल सोना है हितकारी- बालयोगी करन “गुरू”

जौनपुर : अनुलोम विलोम, कपालभाति के साथ-साथ पेट के बल सोना है हितकारी- बालयोगी करन “गुरू”

शाहगंज।
राजकुमार अश्क
तहलका 24×7
                   अगर आप सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठकर सबसे पहले दो गिलास गरम जल पीने के पश्चात अपनी नित्य क्रिया से निवृत्त होकर अपने शरीर के लिए सिर्फ 30 मिनट का समय देते हैं तो यकीन मानिए आप हमेशा स्वस्थ रहेगें उक्त बातें बालयोगी करन “गुरू” ने अपने योग के दौरान कही। उन्होंने कहा कि आज चारों तरफ़ कोरोना जैसी वैश्विक महामारी ने अपना ताण्डव मचाया हैं, क्या बुढ़ा.. क्या जवान.. सभी काल के गाल में असमय समाते जा रहे हैं।

ऐसा लग रहा है जैसे मौत नंगा नाच कर रही है ऐसे में हमे अत्यधिक सावधान और सतर्क रहने की जरूरत है। एक दूसरे से बातचीत करते समय हमे कम से कम दो हाथ की या अगर संभव हो तो एक मीटर से ज्यादा की दूरी रखनी चाहिए। हमें अपने चेहरे को इस प्रकार से ढ़क कर रखना चाहिए जिससे हमारे नाक और मुंह पूरी तरह से ढ़के रहे, मगर हमें सांस लेने किसी प्रकार की कठिनाई न हो, इस महामारी से बचने का सबसे आसान तरीका है।
अपनी व्यक्तिगत साफ सफाई के साथ ही साथ अपने चारों तरफ का वातावरण स्वच्छ रखना, हर एक घण्टे पर या कुछ भी खाने पीने से पहले अपने हाथों को अच्छी प्रकार से किसी भी साबुन से धोना, समय समय पर अपने नाखूनों को काटना और सबसे जरूरी है अपने अन्दर से नकारात्मक सोच को बाहर निकालना।नकारात्मकता ही हमारी सबसे बडी शत्रु हैं, इसलिए हमें कभी भी नकारात्मक नहीं होना चाहिए और इसके लिए सबसे जरूरी है अपने आप को योग के साथ जोड़ना और अपने सुख दुःख को अपने परिवार और मित्रों के साथ बाँटना, अगर हम सुबह ब्रह्म मूहूर्त में उठते हैं तो 30 फीसदी तक बीमारी दूर हो जाती है, तथा अगर वही स्नान कर लेते हैं तो 50 फीसदी तक बीमारी दूर हो जाती है और अगर वहीं सुबह आसन, प्राणायाम आदि कर ले तो 90 फीसदी बीमारी दूर हो जाती है।
आज सबसे ज़्यादा मृत्यु सांस की कठिनाई के कारण हो रही है ऐसे में अगर आप अनुलोम विलोम, कपालभाति आदि जैसे सूक्ष्म व्यायाम करते हैं तो यकीन मानिए आप स्वस्थ रहेगें, आप जब भी सोइए तो जहाँ तक संभव हो बाई करवट सोने की कोशिश करिए अगर आपको सांस लेने में कठिनाई हो रही हो तो आप पेट के बल इस प्रकार सोइए जिसमें आपका सर पेट की अपेक्षा कुछ नीचे रहें. इसके लिए आप किसी मुलायम तकिये को अपने कमर और पेट तक रख सकते हैं। आप खुद महसूस करेगें की कुछ मिनट पश्चात् आप को राहत मिल गई है।
Apr 30, 2021
Previous articleजौनपुर : मतगणना को लेकर बढ़ने लगी प्रत्याशियों की धड़कनें..
Next articleभाजपा विधायक का आरोप, यूपी में दवा के अभाव में मर रहे हैं लोग..
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏