जौनपुर : अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रहा इमामपुर गांव का पंचायत भवन

जौनपुर : अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रहा इमामपुर गांव का पंचायत भवन

खुटहन।
मुलायम सोनी
तहलका 24×7
                     सरकार सभी सरकारी भवनों और परिषदीय विद्यालयो का रंग रोगन कराकर उसे एक नया आकर्षण देने के लिए पानी की तरह पैसे बहा रही है। बावजूद इसके कुछ गांव ऐसे भी नजर आ जाते है, जहाँ नौकरशाह और जन प्रतिनिधियों की लापरवाही स्पष्ट उजागर होती है। ऐसा ही गांव है इमामपुर, जहाँ डेढ़ दशक पूर्व लाखों की लागत से बनाया गया पंचायत भवन खंडहर में तब्दील हो चुका है।
ग्रामीण बताते है कि निर्माण के बाद इसकी दीवार का प्लास्टर तक नहीं कराया गया। जिसके चलते यह जीर्ण शीर्ण हालत में पहुंच चुका है। यही नहीं यह भवन घास फूस के झुरमुट के बीच होने के चलते मनचलों का अड्डा बना हुआ है। उक्त गाँव के दक्षिणी सीमा पर स्थित घास फूस और सरपत के झुरमुट के बीच वर्ष 2006 मे चार लाख से अधिक की लागत से पंचायत भवन बनाया गया था। छत तो लग गयी लेकिन दीवारों का प्लास्टर नहीं कराया गया। वर्तमान प्रधान संतलाल सोनी ने बताया कि भवन तक जाने के लिए कोई भी सरकारी मार्ग नहीं है। उचित देख-रेख और मरम्मत न होने से भवन डेढ़ दशक में ही जीर्ण शीर्ण हो गया। खिड़किया टूट गयी। दीवारें भी ढहना शुरू हो गई है। अब आलम यह है कि यहाँ लोग आने से भी कतराते है। यह गांव के मनचलो के लिए अय्याशी का अड्डा बनकर रह गया है।
Previous articleजौनपुर : महिला कोरोना योद्धाओं को भाजपा महिला मोर्चा ने किया सम्मानित
Next articleजौनपुर : गोमती नदी का बढ़ा जल स्तर, फसलें हुई जलमग्न
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏