जौनपुर : आज से रात में भी हो सकेगा पोस्टमार्टम

जौनपुर : आज से रात में भी हो सकेगा पोस्टमार्टम

# बदहाल व्यवस्था के बदलाव की कयावद शुरू

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
                    शवों के पोस्टमार्टम संबंधी अंग्रेजों के शासनकाल से चले आ रहे नियम में बदलाव के बाद जिले में भी व्यवस्था में बदलाव कर दिया गया है। गुरुवार से रात में भी पोस्टमार्टम हो सकेगा। इस आशय का शासन से पत्र बुधवार को प्राप्त होने के बाद जिला अस्पताल के अधीक्षक ने डाक्टरों के साथ बैठक कर जरूरी निर्देश दिया और व्यवस्थाओं की समीक्षा की। इसके साथ ही प्रकाश का मुकम्मल इंतजाम करने के लिए सीएमओ से कहा गया है।
इसके पहले रात में पोस्टमार्टम कराने को लेकर काफी जटिलताएं थीं। जिलाधिकारी से अनुमति लेनी पड़ती थी। स्वजन जिला अस्पताल की मोर्चरी के बाहर रोते-बिलखते रात गुजारने को विवश थे। कभी-कभी तो ऐसे ही 24 घंटे से भी ज्यादा गुजर जाते थे। ऐसे शव जिनका पोस्टमार्टम कराना जरूरी होता था संबंधित थानों की पुलिस जिला अस्पताल की मोर्चरी में भेज देती थी। यदि कहीं उपनिरीक्षक के पंचनामा की प्रक्रिया पूरी करने में तीन-चार बज जाते थे तो फिर मृतक के सगे-संबंधियों को रोते-बिलखते कम से कम 24 घंटे बाहर इंतजार करना पड़ता है। ऐसे में उनके दिल पर क्या गुजरती है, इसका अंदाजा आसानी से लगाया जा सकता है।

# अव्यवस्थाओं का है बोलबाला

करीब तीन दशक पुराने पोस्टमार्टम हाउस पर अव्यवस्था का बोलबाला है। शव को पोस्टमार्टम कक्ष तक पहुंचाने के लिए कम से कम एक दर्जन सीढ़ियां उतरनी- चढ़नी होती हैं। स्वजन के लिए बैठने तक का पर्याप्त इंतजाम नहीं है। अगल-बगल झाड़-झंखाड़ हैं।
सीएमएस जिला चिकित्सालय डॉ अनिल कुमार शर्मा ने बताया कि सूर्यास्त के बाद शव का पोस्टमार्टम करने को लेकर शासन का निर्देश प्राप्त हो गया है। बैठक में डाक्टरों को इसके लिए निर्देशित कर दिया गया है आज से रात में भी पोस्टमार्टम हो सकेगा।
Previous articleआजमगढ़ : बेसिक शिक्षा विभाग पर बिजली बिल का 13 करोड़ बकाया
Next articleइस सड़क के बाद खत्म हो जाती है दुनिया, भूलकर भी यहां अकेले नहीं जाते लोग…
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏