जौनपुर : आरबीएसके ने कराया बच्चों की आंखों का मुफ़्त

जौनपुर : आरबीएसके ने कराया बच्चों की आंखों का मुफ़्त

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
                 आरबीएसके सरकारी स्कूलों से कॉन्जेनिटल कैटरैक्ट मरीजों को चिन्हित कर मुक्त उपचार करा रहा है। जिले के 21 ब्लाकों में तैनात हैं 42 टीम 19 वर्ष तक के बच्चों की जांच करते हैं। कटे होंठ और तालू सहित 41 तरह की बीमारियों का मुफ्त इलाज होता है।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बदलापुर अंतर्गत भगतपुर दुर्गापट्टी गांव के 8 वर्षीय करण की नजर नहीं टिकती थी। उसकी पुतली हमेशा घूमती रहती थी। वह ज्यादा दूर भी नहीं देख पाता था। बहुत कोशिश के बाद वह कुछ देख पाता था। खेलने के दौरान वह गेंद को भी बराबर नहीं देख पाता था। लगभग यही हाल था सिरकोनी सीएचसी अंतर्गत अहमदपुर गांव के अनिल मौर्य के सवा वर्षीय बेटे शनि भी दोनों आंखों से दिखाई नहीं देता था। उसकी दोनों आंखों की काली पुतली के अंदर का हिस्सा सफेद हो गया था। इन दोनों बच्चों की आंखें अब ठीक हो चुकी हैं। यह चमत्कार राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के जरिए मिले मुफ्त उपचार से हुआ।

# इस तरह ठीक हुईं आंखें

करण के पिता जयप्रकाश ने बताया कि दो वर्ष पहले दुर्गापट्टी स्थित प्राथमिक विद्यालय आरबीएसके की टीम आई थी। करण वही पढ़ाई कर रहा था। टीम ने करण की जांच की और बताया कि उसे कान्जेनिटल कैटरैक्ट है। वह टीम ही करण को सीतापुर आंख के अस्पताल ले गई और आपरेशन कराकर लेंस डलवाया। जिससे उसकी आंख ठीक हो गई है। वहीं अहमदपुर के अनिल, शनि की आंख दिखाने सीतापुर ले गए। वहां पर डॉक्टर ने आरबीएसके का कार्ड बनवाकर लाने पर मुफ्त में इलाज करने की सलाह दी। इसलिए उन्होंने सीएचसी सिरकोनी के माध्यम से आरबीएसके का कार्ड बनवाया और सीतापुर ले जाकर मुफ्त में आपरेशन करवाया। अब करण और शनि ठीक है। उन्हे ठीक से दिखाई देने लगा है।


# जन्मजात होती है यह बीमारी

बदलापुर सीएचसी में नेत्र परीक्षण अधिकारी सुशील यादव बताते हैं कि कान्जेनिटल कैटरैक्ट ऐसी बीमारी है, जिसमें बच्चे को बहुत कम दिखता है। उसके रेटिना के अंदर लेंस वाले हिस्से में सफेदी आने लगती है। उम्र बढ़ने के साथ यह सफेदी लेंस वाले पूरे हिस्से को घेर लेती है और दिखना पूरी तरह से बंद हो जाता है।

# आरबीएसके में 41 प्रकार की बीमारियों का होता है इलाज

आरबीएसके के नोडल अधिकारी व अपर मुख्य चिकित्साधिकारी (एसीएमओ) डॉ राजीव कुमार बताते हैं कि आरबीएसके के तहत न्यूरल ट्यूब डिफेक्ट (जन्मजात दोष), कटे होठ और तालु, क्लब फुट (टेढ़ा पैर), जन्मजात मोतियाबिंद, दिल में छेद, जन्मजात बहरापन, डिफीसिएन्सीज सहित 41 प्रकार की जन्मजात व गंभीर बीमारियों से पीड़ित बच्चों के इलाज की निःशुल्क सुविधा दी जाती है।

# 21 ब्लाकों में 42 टीमें

डिस्ट्रिक्ट अर्ली इनटर्वेंशन सेंटर (डीईआईसी) मैनेजर अमित गौड़ बताते हैं कि  जौनपुर जिले के 21 ब्लाकों में आरबीएसके की 42 टीमें हैं। हर टीम में दो डॉक्टर हैं। जो सरकारी स्कूलों और आंगनबाड़ी केंद्रों में जाकर 19 साल तक के बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण कर जन्मजात व गंभीर बीमारियों से पीड़ित बच्चों को चिह्नित करते हैं। चिह्नित करने के बाद इन बच्चों को शनिवार को सीएचसी पर बुलाते हैं। वहां से जिला अस्पताल ले जाकर एक रुपए की पर्ची बनवाकर डीईआईसी मैनेजर के सहयोग से तथा सीएमओ के हस्ताक्षर से रेफर करवाते हैं। उसके बाद सीतापुर आंख के अस्पताल में लेजाकर उसकी सर्जरी कराई जाती है।

Earn Money Online

Previous articleजौनपुर : संदिग्ध परिस्थितियों में नीम के पेड से लटका मिला किशोरी का शव
Next articleजौनपुर : शीतलहर के चलते 29 और 30 दिसंबर को कक्षा 1 से 8 तक के विद्यालय रहेंगे बंद- जिलाधिकारी
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏