जौनपुर : कृषि विज्ञान केंद्र अमिहित में मनाया गया विश्व दुग्ध दिवस

जौनपुर : कृषि विज्ञान केंद्र अमिहित में मनाया गया विश्व दुग्ध दिवस

# थनैला, खुरपका, मुंहपका एवं लंगड़ी जैसी बीमारी के बचाव की जानकारी दी गई

केराकत।
विनोद कुमार
तहलका 24×7
                  क्षेत्र के कृषि विज्ञान केंद्र अमिहित में विश्व दुग्ध दिवस मनाया गया इस अवसर पर मुख्यवक्ता केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ नरेंद्र रघुवंशी ने किसानों को अपने दुधारू पशुओं मैं थनैला, रोग, खुरपका, मुहपका एवं लंगडी जैसी बीमारी से बचाने के उपाय बताएं। साथ ही उन्होंने बताया कि यदि दुधारू पशुओं को दूध निकालने के बाद आधा घंटा तक बैठने ना दिया जाए तो 95% थनैला रोग स्वता समाप्त हो जाएगा क्योंकि दूध निकालने के बाद पशु यदि खड़ा रहे तो थन के संपर्क में बैक्टीरिया नहीं आएंगे और बचाव हो जाएगा। अब पशु को आधा घंटा दूध निकलने के बाद मिश्रण खिलाकर जैसे हरा चारा दाना का मिश्रण खिलाकर पशु को आधा घंटा तक खड़ा रखा जाए तो थनैला से बचाया जा सकता है।

इस अवसर पर 200 कृषक लिंक से जोड़कर कार्यक्रम को संपन्न किया गया। वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष ने दुधारू पशुओं को बैलेंस डाइट देने के तरीकों की जानकारी ऑनलाइन कृषकों को बताया साथ ही पशुपालन को बढ़ावा देने पर अत्याधिक जोर दिए गए जिससे कि दुग्ध का उत्पादन देश में और बढ़ाया जा सके। डॉ नरेंद्र रघुवंशी ने बताया की पशु और पशुजन्म उत्पाद का मनुष्यों के जीवन में बहुत ही महत्व है उन्होंने स्वच्छ दुग्ध उत्पादन की भी जानकारी लिंक के माध्यम से कृषकों को उपलब्ध कराई। इस अवसर पर उपस्थित केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक शस्य विज्ञान डॉ अशोक कुमार सिंह, मृदा वैज्ञानिक दिनेश कुमार व प्रक्षेत्र प्रबंधक विजय कुमार सिंह, प्रदीप यादव, सचिन यादव, परमेंद्र, विवेक व प्रगतिशील कृषक इंद्रसेन सिंह, विश्वजीत, वेद प्रकाश, बृजेश इत्यादि ने मौजूद रहे।
Previous articleजौनपुर : तेज आंधी तूफान व भारी बारिश से उजड़ा गरीबों का आशियाना
Next articleजौनपुर : दीवार ढहने से मांँ-बेटी घायल, पेड़ की डाल से दबकर मरी गाय
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏