जौनपुर : कोरोना काल में अधिकांश नेता हुए भूमिगत, छपासी नेता खेल रहे हैं फेसबुक- फेसबुक, व्हाट्सअप- व्हाट्सअप

जौनपुर : कोरोना काल में अधिकांश नेता हुए भूमिगत, छपासी नेता खेल रहे हैं फेसबुक- फेसबुक, व्हाट्सअप- व्हाट्सअप

# असल जमीनी हकीकत में अमीक जामेई बने गरीबों के मसीहा

# डोर टू डोर, गांव-गांव जाकर वितरित कर रहे हैं मेडिसिन किट व आक्सीजन

जौनपुर।
रवि शंकर वर्मा
तहलका 24×7
                  वैश्विक महामारी कोरोना काल में लॉकडाउन के दौरान तमाम नेता भूमिगत हो गये हैं वहीं छपासी नेताओं ने समाजसेवा की एक नई परिपाटी शुरू कर दी है। तमाम छपासी नेतागण सोशल मीडिया की वैतरणी में फेसबुक- फेसबुक, व्हाट्सअप- व्हाट्सअप खेल रहे हैं और अपने समाजसेवा की नैय्या को लाईक, शेयर और कमेंट की पतवार से खे कर छपास रोग मिटा रहे हैं। वहीं इस विकट समय में जरूरतमंदों की मदद के लिए सपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता अमीक जामेई अपने दिल के दरवाजे खोल कर असल जमीनी हकीकत में गरीबों, असहायों के मसीहा बन कर उभरें हैं।
बताते चलें कि अमीक जामेई ने गरीबो की मदद के लिए डॉक्टरों का ऑनलाइन पैनल तैयार कर अपनी टीम के साथ डोर टू डोर गरीब बेसहारा कमज़ोर लोगो को गांव-गांव जाकर दवाओं की कोरोना किट, ऑक्सीज़न वितरित कर रहे है। अमीक जामेई के संकट की घड़ी में अपने गृह जनपद में ज़रूरतमंदों की इस सेवा की लोग प्रशंसा कर रहे है तो वहीं तमाम फेसबुकिया नेताओ की अब खुलकर आलोचना भी कर रहे हैं।
कोरोना संकट ऐसी आपदा जो न पहले किसी ने सुनी न देखी। देश ही नहीं, पूरी दुनिया में इस कदर खौफ कि लोगों ने खुद को अपने घरों में समेट लिया। काम-धंधा बंद होने से गरीबों के सामने कोरोना महामारी के बीच दवाओं के लिए पैसों की किल्लत हो गयी ऐसे कठिन हालात में अमीक जामेई ने खौफ के साथ सुख-चैन को तिलांजलि दे दी और निकल पड़े गरीबों की मदद करने के लिए… इसके लिये उन्होंने खुद के खून-पसीने की कमाई को भी खर्च करने में तनिक भर नहीं सोचा। 
जौनपुर के ग्रामीण इलाक़ों में तेज़ी से बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए सपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता अमीक जामेई द्वारा कोरोना पेसेंट को दी जाने मेडिसिन किट की व्यवस्था की। साथ ही 13 MBBS और BUMS स्तर के डॉक्टरों की एक टीम तैयार की जो फोन कॉल के माध्यम से पेसेंट की परेशानियों को सुनकर उन्हें सही जानकारी दे रहे हैं जिसके बाद अमीक जामेई अपनी टीम के साथ मरीज़ों को दवाइयाँ पहुँचाने का काम कर रहे हैं।
दवाइयों के साथ-साथ अमीक जामेई ने कुछ ऑक्सीजन सिलेंडर भी रखे हैं जो बहुत इमरजेंसी केस के लिए मरीज़ को मुहैया करवा रहे है। साथ ही उन्होंने हेल्पलाइन नम्बर 8076929500 जारी किया है जिसके माध्यम से कोई भी बेसहारा मरीज़ उनकी टीम से संपर्क कर सकता है जिसकी मदद के लिए उनकी टीम सदैव तत्पर है।
Previous articleस्व. संत प्रसाद आर्य की दुकान… “ज्वेलरी पैलेस”
Next articleजौनपुर : रस्सी के फंदे से लटकता मिला युवक का शव, आत्महत्या की आशंका
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏