जौनपुर : खुशी की मंगल बेला में मातम का मंजर

जौनपुर : खुशी की मंगल बेला में मातम का मंजर

# असहाय परिवार को ढांढस बंधाने को आगे आया शहीद संजय सिंह फाउंडेशन

केराकत।
विनोद कुमार
तहलका 24×7
                   एक तरफ जहाँ कोरोना कॉल में मानवता को शर्मसार करने वाली घटनाएं रोजाना सामने सुनने व देखने को मिल रही है जिसमें मानवता अंधकार की तरफ जाती हुई दिखाई दे रही है तो वहीं मानवता की मिसाल पेश करने वाली फाउंडेशन शहीद सञ्जय सिंह फाउंडेशन के द्वारा एक असहाय परिवार की मदद क्षेत्र में काफी चर्चा का विषय है जिससे असहाय व मजबूर लोगो के लिये अंधकार से प्रकाश की ओर एक किरण नजर आ रही है।

हम बात कर रहें है केराकत क्षेत्र के सेनापुर ग्राम निवासी रविंद्र कुमार की जिनकी पुत्री की सगाई 16 मई को घर से ही कुछ परिजनों के बीच मे होनी थी कि अचानक 12 मई को रविंद्र कुमार की हालत बिगड़ गयी जिनकी इलाज के दौरान शनिवार 15 मई को अस्पताल में ही मृत्यु हो गई। सगाई के मंगल बेला पर ही घर में मातम का माहौल छा गया। पूरे घर की आजीविका चलाने वाले रविंद्र कुमार मेहनत मजदूरी करके अपने पूरे परिवार का लालन पालन करते थे। पूरे परिवार पर दुखों का पहाड़ ऐसा टूटा की परिवार की आर्थिक स्थिति की कमर टूट गयी।
परिवार के सामने विषम परिस्थिति आकर खड़ी हो गई जो कि हल होती नजर नही आ रही थी कि ऐसे समय में शहीद संजय सिंह फाउंडेशन के संचालक व फाउंडर सुधीर कुमार सिंह ने अपने हाथ आगे बढ़ाएं और रविंद्र कुमार के अंतिम संस्कार के बाद तेरहवीं संस्कार में सीमित लोगों की व्यवस्था के साथ सभी संस्कार संम्पन्न कराया व परिवार को विषम परिस्थिति से बाहर निकाला। रविंद्र कुमार अपने पीछे नाजुक गृहस्थी के साथ पत्नी जीरा देवी व पुत्र मुकेश 14, सुकेश 10 दो पुत्री काजल 19 वर्ष, कविता 13 वर्ष को छोड़ गए। शहीद संजय सिंह फाउंडेशन के फाउंडर सुधीर सिंह से जब बात की गई तो उन्होंने बताया कि हमारा फाउंडेशन उन असहाय व मजबूर लोगो के हर सम्भव मदद के लिए तैयार रहेगा।
Previous articleताऊक्ते के बाद अब आनेवाला है सुपर साइक्लोन, मौसम विभाग ने जारी किया एलर्ट
Next articleजौनपुर : सड़क हादसे में घायल स्वास्थ्य कर्मी की इलाज के दौरान मौत, ग़मगीन हुआ स्वास्थ्य महकमा
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏