जौनपुर : गांधी और शास्त्री जयंती पर संगोष्ठी का आयोजन, निकाली गई तिरंगा यात्रा

जौनपुर : गांधी और शास्त्री जयंती पर संगोष्ठी का आयोजन, निकाली गई तिरंगा यात्रा

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
               सत्य और अहिंसा के प्रबल पक्षधर, स्वतंत्रता संग्राम के महानायक, अहिंसा के पुजारी राष्ट्रपिता महात्मा गांधी व जय जवान- जय किसान के प्रणेता लाल बहादुर शास्त्री जी ने एक ऐसे भारत की संकल्पना की थी जिसमें भारत भय, भूख, अभाव और निरक्षरता से मुक्त हो। ऐसे भारत के नव निर्माण के लिए हम सभी कार्यकर्ताओं को प्राण प्रण से जुट जाना चाहिए। उक्त बातें राज्य मंत्री गिरीश चंद्र यादव ने सद्भावना सेतु स्थित नवदुर्गा शिव मंदिर पर आयोजित एक संगोष्ठी को संबोधित करते हुए कहा। संगोष्ठी का आयोजन भारतीय जनता पार्टी जौनपुर नगर दक्षिणी द्वारा महात्मा गांधी एवं लाल बहादुर शास्त्री की जयंती के अवसर पर किया गया।

संगोष्ठी को संबोधित करते हुए पूर्व सांसद कृष्ण प्रताप सिंह ने कहा कि लाल बहादुर शास्त्री राजनीति की कालकोठरी में एक ऐसे चुनिंदा शख्सियतों में से एक थे जो सदैव धूमकेतु की तरह चमकते रहेंगे। पूर्व विधायक सुरेंद्र प्रताप सिंह ने संगोष्ठी को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में गांधीजी की भूमिका ने भारतीय समाज और राष्ट्रीयता को नए सिरे से गढ़ने में मदद की उनकी अहिंसक नीतियों और नैतिक आधारों ने अधिकाधिक लोगों को आंदोलन से जोड़ा। भारतीय जनता पार्टी जौनपुर नगर दक्षिणी अध्यक्ष अमित श्रीवास्तव ने संगोष्ठी को संबोधित करते हुए कहा कि सभी धर्मों को एक समान मानने, पुरुषों और महिलाओं को बराबर का दर्जा देने, दलितों गैर दलितों के बीच लंबे समय से चली आ रही खाई को पाटने, सभी भाषाओं का सम्मान करने वाले महात्मा गांधी को उन्हीं के विचारों के सम्मान हेतु 2 अक्टूबर उनकी जयंती पर हर साल “अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस” के रूप में मनाया जाता है। स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस की तरह ही इस दिन को भी राष्ट्रीय पर्व का दर्जा दिया गया है।

पूर्व अध्यक्ष/सदर विधानसभा प्रभारी अशोक श्रीवास्तव ने संगोष्ठी को संबोधित करते हुए कहा कि पाकिस्तान से युद्ध के दौरान जब देश में अन्न की कमी हो गई, देश भुखमरी की समस्या से जूझने लगा उस संकटकाल में लाल बहादुर शास्त्री ने न सिर्फ अपनी तनख्वाह लेना बंद कर दिया वरन देश के लोगों से हफ्ते में एक दिन एक वक्त का व्रत रहने की अपील भी की।कार्यक्रम की अध्यक्षता नगर अध्यक्ष अमित श्रीवास्तव ने की। संगोष्ठी के पश्चात पूरे नगर में विशाल तिरंगा यात्रा निकाली गई। यात्रा में शामिल उत्साही कार्यकर्ता महात्मा गांधी अमर रहें, लाल बहादुर शास्त्री अमर रहें, भारत माता की जय का नारा लगाते रहे। सद्भावना सेतु से प्रारंभ हुई “तिरंगा यात्रा” का समापन खरका स्थित गांधी प्रतिमा पर हुआ। जहां उपस्थित सभी लोगों ने गांधी जी की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की तथा खादी के सामान का अधिकाधिक प्रयोग करने का संकल्प लिया। संगोष्ठी का संचालन नगर महामंत्री सतीश सिंह “त्यागी” ने किया एवं आए हुए अतिथियों का आभार राजेश गुप्ता ने प्रकट किया।

“तिरंगा यात्रा” कार्यक्रम के संयोजक नगर कोषाध्यक्ष संदीप जायसवाल रहे। इस अवसर पर जिला महामंत्री अमित श्रीवास्तव, सुरेंद्र सिंघानिया, रविंद्र सिंह “दादा”, राजेश श्रीवास्तव, नीरज सिंह, पूर्व नगर अध्यक्ष श्याम मोहन अग्रवाल, सुधांशु सिंह, धनंजय सिंह, आशीष गुप्ता, महिला मोर्चा की नगर अध्यक्ष सीमा तिवारी, नगर उपाध्यक्ष डॉ कमलेश निषाद, जय विजय सोनकर, मनोज तिवारी, राजेश कन्नौजिया, अभिषेक श्रीवास्तव, अमूल्य श्रीवास्तव, प्रदीप तिवारी, आयुष अस्थाना, डॉ ब्रह्मेश शुक्ला, आलोक मिश्रा, जयप्रकाश गुप्ता, श्रीमती रीता पटेल, दीपक मिश्र, निशा कांत द्विवेदी, जगमेंद्र निषाद, श्रवण मौर्य, राहुल निषाद, अतुल जायसवाल, पंकज श्रीवास्तव, विपिन सिंह, मोहित कश्यप, आलोक श्रीवास्तव, जटाशंकर त्रिपाठी, गौरव श्रीवास्तव, मनीष श्रीवास्तव, सिद्धार्थ सिंह, आदर्श श्रीवास्तव, सुमित शुक्ला,अश्वनी निषाद, सत्येंद्र सिंह, अरविंद साहू, शिव कमल मौर्य, संदीप माली, नगर आईटी संयोजक अंकित गुप्ता, सुधांशु विश्वकर्मा, पवन निषाद, शुभम निषाद आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।
Previous articleजौनपुर : हर्षोल्लास के साथ मनाई गयी गांधी और शास्त्री जयंती
Next articleशिमला : खेल प्रतियोगिताओं से बढ़ता है आपसी सामंजस्य- जेसी कफील
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏