जौनपुर : घर में घुसकर दारोगा द्वारा ताजिया तोड़ने का आरोप

जौनपुर : घर में घुसकर दारोगा द्वारा ताजिया तोड़ने का आरोप

# आस्था से जुड़ा मामला होने के चलते आक्रोशित ताजियादारों ने किया कोतवाली का घेराव

# सैकड़ों की संख्या में आक्रोशित ताजियादारों ने लगाए पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद के नारे

शाहगंज।
रवि शंकर वर्मा
तहलका 24×7
                मोहर्रम में ताजिया न उठाने को लेकर कोतवाली पुलिस के एक दरोगा चार पांच सिपाहियों के साथ शिया समुदाय के मोहल्ले भादी खास में धमक पड़े। आरोप है कि ताजिया बनाने वाले सुब्बन खां और इंतेजार खां के घर में बनी हुई रखी ताजिया को तोड़कर फेंक दिया और परिजनों के साथ अभद्र व्यवहार किया। वहीं ताजिया बनाने वाले इन्तेजार के घर एक कमरे में टूटी ताजिया रखकर उसमे ताला बंद करते हुए चाभी भी अपने साथ लेकर चले गए। घटना की खबर जंगल में आग की तरह फैल गई। हज़ारों की संख्या में लोग कोतवाली पहुंचकर तुर्बत के लिए मातम शुरू किया। मौके पर उप जिलाधिकारी राजेश कुमार वर्मा, क्षेत्राधिकारी अंकित कुमार पहुंचे।
पूर्व मे शासनादेश पर जुलूस की मनाही रही। इसके बाद कोतवाली पुलिस ने ताजिया बनाने वालों को ताजिया बनाने से मना किया था। जिस पर लोगों ने अपनी सहमती भी जतायी थी। ताजियादारों का आरोप है कि शुक्रवार की रात साढ़े आठ बजे कोतवाली के दारोगा महेश सिंह अपने हमराहियों के साथ ताजिया बनाने वाले सुब्बन खां के घर पहुंचे परिजनों को जेल भेजने की धमकी देते हुए घर में रखी पांच छह की संख्या में बनी ताजिया को तोड़ दिया। इसके बाद पुलिस टीम ताजिया बनाने वाले इंतेजार खान के घर पहुंची जहां परिवार में कोई पुरुष नहीं था। इंतजार के घर की महिलाओं का आरोप है कि पुलिस ने घर की महिलाओं को गाली देते हुए घर में रखी ताजिया को तोड़ दिया। टूटी ताजिया को एक कमरे में रखकर उसमें ताला बंद करते हुए चाभी दरोगा अपने साथ लेकर चले गए।
घटना की खबर लगते ही शिया समुदाय में आक्रोश छा गया, खबर जंगल की आग की तरह पूरे क्षेत्र में फैल गई। कुछ ही देर में पश्चिमी कौड़िया के सरैंया, नई आबादी से लेकर बड़ागाँव के शिया समुदाय के लोग मौके पर पहुंच गए। दारोगा की कारस्तानी से आक्रोशित लोग कोतवाली पहुंचकर पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद के नारे लगाए। तुर्बत की बेहुर्मती (ताजिया के अपमान) पर समुदाय के लोगों ने काफी देर तक कोतवाली में रो रोकर नौहा और मातम भी किया। मौके पर मौजूद एसडीएम राजेश कुमार वर्मा, क्षेत्राधिकारी अंकित कुमार कोतवाली पहुंचकर समुदाय के लोगों से वार्तालाप करते रहे। वहीं कोतवाली के बाहर भारी भीड़ नौहा मातम करती रही।
प्रकरण में एसडीएम राजेश वर्मा ने शिया समुदाय के मौलाना सै. मासूम रज़ा कैफी से काफी देर तक वार्ता की। मौलाना सै. मासूम रज़ा कैफी द्वारा दोषी पुलिस कर्मियों को बर्खास्त करने की मांग करते रहे जिस पर एसडीएम श्री वर्मा ने कहा कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी लेकिन ताजिया तोड़ने का साक्ष्य जिसके पास हो वह अधोहस्ताक्षरी साक्ष्य लेकर कल एसडीएम कार्यालय में आयें। साक्ष्य के आधार पर उचित कार्रवाई की जाएगी तब जाकर मामला शांत हुआ।
Previous articleआजमगढ़ में चार जिलों की आयकर टीमों ने मारा छापा
Next articleजौनपुर : जेसीआई चेतना ने मनाया धूमधाम से सावनी महोत्सव
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏