जौनपुर : जांच में नहीं मिली मेड़बंदी, मस्टररोल शून्य कर वसूली का निर्देश

जौनपुर : जांच में नहीं मिली मेड़बंदी, मस्टररोल शून्य कर वसूली का निर्देश

खुटहन।
मुलायम सोनी
तहलका 24×7
            ग्रामीण विकास मंत्रालय भारत सरकार के निर्देश पर बुधवार को डीसी मनरेगा भूपेंद्र सिंह ने गोबरहा, डिहिया और शेखपुर सुतौली गांव में मनरेगा से कराए गये मिट्टी का कामों की जांच पड़ताल किया। गोबरहा गांव में करायी गयी मेड़बंदी में गड़बड़ी पायी गयी। मौके पर खड़ी फसल के बीच आंशिक रूप से मेड़ बना मिला। जिसे काम का न होना मानकर डीसी ने तत्काल प्रभाव से मस्टररोल शून्य कर दिखाए गये ब्यय धन की वसूली का निर्देश बीडीओ को दिया। इसके अलावा डिहिया और शेखपुर सुतौली में काम संतोष जनक पाया गया।

गोबरहा गांव के सौरभ, आलोक, अखिलेश, रमेश आदि ने ग्रामीण विकास मंत्रालय में संयुक्त रूप से प्रार्थना पत्र देकर आरोप लगाया था कि गांव के प्रधान के द्वारा मेड़बंदी की चार परियोजनाओं में सिर्फ कागज पर काम दिखाकर फर्जी भुगतान करा लिया गया है। इसके अलावा प्रधान अपने घर के तीन लोगों को मजदूर दिखाकर हजारों रूपये सरकारी धन निकाल लिया है। जिसकी जाँच करने बुधवार को डीसी मनरेगा गाँव पहुँच गये। आरोप सही पाये जाने पर उन्होंने बीडीओ गौरवेंद्र सिंह को तत्काल मस्टररोल शून्य कर सरकारी धन की वसूली कराये जाने का निर्देश दिया। उधर प्रधान का कहना है कि धान की रोपाई से पूर्व मेड़बंदी करा दी गई थी। बरसात और खेत की जुताई के चलते मिट्टी कट कर खेत में चली गई है।