जौनपुर : डेढ़ करोड़ की जमीन के लिए दिव्यांग बेटे को सगे बाप ने बांधकर पीटा

जौनपुर : डेढ़ करोड़ की जमीन के लिए दिव्यांग बेटे को सगे बाप ने बांधकर पीटा

# सगी मां ने नहीं दिया पांच दिन से खाना, दिव्यांग थाने पहुंच कर लगाई न्याय की गुहार

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
               चंदवक थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी दिव्यांग दीपक ने एएसपी सिटी डॉ. संजय कुमार से मंगलवार को न्याय की गुहार लगाई है। पीड़ित का कहना है कि वह जन्म से ही दोनों आंखों से देख नहीं सकता है। इसकी वजह से डेढ़ करोड़ की जमीन के लिए उसके सगे मां-बाप उसकी जान के दुश्मन बने हैं। दीपक ने पिता पर बांध कर पीटने और मां पर पांच दिनों तक खाना न देने का आरोप लगाया।पीड़ित दीपक के मुताबिक, उसके बाबा ने मेरे और दो भाइयों के नाम अपनी विरासत लिखी थी। दीपक ने बताया कि उसके हिस्से में 4 से 5 बीघा जमीन आई थी।

यह बात पहले मुझे मालूम नहीं थी। अभी दो तीन महीने पहले मुझे पता चला की फर्जी दस्तावेजों के सहारे मेरे पिता जमीन बेच रहे हैं। पता चला कि मुझे भी विरासत में जमीन मिली है। ऐसे में मैंने जमीन बेचने का विरोध किया तो घरवाले ही मेरी जान के दुश्मन बन बैठे। दीपक के अनुसार उनके हिस्से में आई जमीन की कीमत लगभग डेढ़ करोड़ है। जमीन का कुछ हिस्सा हाईवे किनारे होने से उसका दाम बढ़ गया है।दीपक ने बताया कि जमीन कीमती होने की वजह से घरवालों की नजर बेचने पर है। बाबा की मौत 2014 में हुई थी।

आरोप लगाया कि दिव्यांग होने की वजह से मुझे बचपन से ही घर में अलग-थलग रखा गया। पिता पर आरोप लगाया कि उसके नाम की जमीन को जबरन बेचना चाहते हैं। इसीलिए मुझे परेशान किया जा रहा है। उसने पिता पर बांध कर पीटने का आरोप लगाया तो वहीं मां पर पांच दिनों तक खाना नहीं देने का आरोप लगाया  है। कहा, रक्षाबंधन पर बहन से राखी बंधवाने के बहाने घर से किसी तरह भाग का पुलिस के पास आया। इस संबंध में एएससी डॉ. संजय कुमार का कहना है कि पीड़ित ने शिकायत की है। थानाध्यक्ष को निर्देशित कर दिया गया है कि दोनों पक्षों को बुलाकर मामले का समाधान कराएं।
Previous articleआजमगढ़ : प्रेमिका के दबाव में करना पड़ा कोर्ट मैरिज
Next articleजौनपुर : दिव्यांगजन शादी प्रोत्साहन पुरस्कार योजना शुरू
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏