जौनपुर : तहसील प्रशासन के खिलाफ लामबंद हुए अधिवक्ता

जौनपुर : तहसील प्रशासन के खिलाफ लामबंद हुए अधिवक्ता

शाहगंज।
रवि शंकर वर्मा
तहलका 24×7
            अधिवक्ता और तहसील के कर्मचारी के बीच हुए विवाद के उपरांत एक अधिवक्ता के खिलाफ कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराए जाने से नाराज अधिवक्ता लामबंद हो गए है। शुक्रवार को बैठक के बाद घटना की निष्पक्ष जांच व अफसरों के तबादले की मांग को लेकर कार्य बहिष्कार करने का निर्णय लिया।

तहसीलदार के न्यायालय में कर्मचारी व अधिवक्ता के बीच हुए विवाद में तहसील के अधिवक्ता सुभाष यादव के खिलाफ एससी-एसटी सहित अन्य गंभीर धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कराए जाने की जानकारी मिलने पर तहसील के अधिवक्ता आक्रोशित हो उठे। अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष राजदेव यादव की अध्यक्षता में अधिवक्ताओं ने एक बैठक की। जिसमें वक्ताओं ने तहसील प्रशासन पर मनगढ़ंत कहानी बताकर केस दर्ज कराने का आरोप लगाते हुए कहा कि मामूली घटना को बढ़ा चढ़ाकर बताया गया।
विवाद प्राइवेट कर्मचारी के साथ हुआ था इस सच को जानने के बावजूद षड्यंत्र के तहत अनुसूचित जाति के सरकारी कर्मचारी को मोहरा बनाकर गलत मुकदमा अधिवक्ता के खिलाफ लिखाया गया। कहा मुकदमें की निष्पक्ष जांच हो तो मुकदमा दर्ज कराने वाले कर्मचारी व उसको उकसाने वाले अधिकारी खुद मुकदमें में फंस जाएंगे। अधिवक्ता चाहते हैं कि निष्पक्ष जांच करा कर कार्यवाई की जाए। बैठक में प्रशासन के अधिकारियों के व्यवहार पर भी चर्चा हुई। निर्णय लिया गया कि मामले को लेकर प्रशासनिक अफसरों के तबादले तक कार्य बहिष्कार जारी रहेगा। बैठक का संचालन महामंत्री लालचंद गौतम ने किया।

बैठक में समर बहादुर यादव, धर्मेंद्र यादव, अमरनाथ सिंह, रवि प्रकाश श्रीवास्तव, भारत यादव सहित अन्य अधिवक्ताओं ने भी अपने विचार रखे। बैठक के उपरांत एकजुट अधिवक्ताओं ने तहसील परिसर में जमकर नारेबाजी भी की।
Previous articleजौनपुर : जमीनी विवाद में युवक को पीटकर किया घायल
Next articleजौनपुर : मिशन बाईपास के तहत शाहगंज में चलाया गया बृहद हस्ताक्षर अभियान
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏