जौनपुर : दुर्व्यवस्था ! नवम्बर से रखे 30 लाख के कम्बल गरीब असहायों से दूर

जौनपुर : दुर्व्यवस्था ! नवम्बर से रखे 30 लाख के कम्बल गरीब असहायों से दूर

# हाड़मांस कंपाती ठंड में गरीब जरूरतमंद ठिठुरने को मजबूर

# अलाव जलाने की हो रही है कोरमपूर्ति

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
                  शीतलहर अब चरम की ओर है और इस सप्ताह जिले का पारा चार डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। ऐसे में गरीबों असहायों की हालत अधिक खराब है। सरकार ने गरीबों को कंबल बांटने के लिए धन पिछले माह ही उपलब्ध करवा दिया था किंतु लगभग एक माह का समय बीतने के बाद भी गरीबों को कंबल वितरण का कार्य अभी शुरू भी नहीं हो पाया है। प्रशासन का कहना है कि तहसीलों में कंबल भेज दिए गए है जल्दी ही पात्रों को उनका वितरण शुरू कर दिया जाएगा।

ठंड से बचाव के लिए शासन स्तर से जिले को 33 लाख रुपये का बजट दिया गया था। नवंबर के अंतिम सप्ताह में 30 लाख रुपये कंबल और तीन लाख रुपये अलाव पर खर्च करने को जारी हुए थे। धन मिलने के बाद प्रशासन के टेंडर कराने और कंबल क्रय कर तहसीलों को उपलब्ध कराने में ही लगभग एक माह का समय निकल गया। स्थिति यह है अभी तक जनपद की सभी 6 तहसीलों से एक भी कंबल का वितरण नहीं किया जा सका है। कमोवेश यही हालत अलाव जलाने की व्यवस्था को लेकर भी है। जिले की सभी तहसीलों को 50-50 हजार रुपये के हिसाब से बजट उपलब्ध कराया गया है, लेकिन, अब तक इस कार्य में भी कोरमपूर्ति ही हो रही है।

हालांकि नगर निकायों को अपने बजट से अलाव की व्यवस्था कराने को कहा गया है, जो कोरमपूर्ति ही कर रहे हैं। आंकड़े के मुताबिक शहर में 22 स्थानों पर अलाव की व्यवस्था की गई है। इसी तरह नगर पंचायत रामपुर में 6, नगर पंचायत मड़ियाहूं 12, नगर पालिका मुंगराबादशाहपुर में 8, शाहगंज में 12, नगर पंचायत जफराबाद में 10, केराकत में 9, खेतासराय में 18, गौरा बादशाहपुर में 12, मछलीशहर में 11, बदलापुर में 11 स्थानों पर अलाव जलाने की सूचना जिला मुख्यालय पर भेजी गई है। मगर, पड़ताल में इसके विपरीत ही स्थिति मिली। अधिकांश स्थानों पर लोगों ने आरोप लगाया कि नाममात्र की लकड़ी गिराई जा रही है।

Earn Money Online

Previous articleजौनपुर : डेढ़ लाख का झांसा देकर 20 हजार व मोबाइल ले उड़ा उचक्का
Next articleआजमगढ़ : नाबालिग संग दुष्कर्म के दोषी को आजीवन कारावास व 30 हजार का अर्थदंड
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏