जौनपुर : धूमधाम से मनाया गया हजरत अब्दुल रहीम शाह का 63वां उर्स मुबारक

जौनपुर : धूमधाम से मनाया गया हजरत अब्दुल रहीम शाह का 63वां उर्स मुबारक

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
               शहर के मछली शहर पड़ाव स्थित तारापुर कॉलोनी में हजरत अब्दुल रहीम शाह रहमतुल्ला अलेह का 63वां उर्स मुबारक धूमधाम से मनाया गया। सर्वप्रथम उर्स के लिए चादर शाहीपुल से उठकर मजार ए मुबारक पर पहुंची जहां पर एक कौमी यकजहती का प्रोग्राम भी हुआ जिसमें मुख्य रुप से मुख्य अतिथि के रूप में व्यापारी नेता इंद्रभान सिंह इंदु मौजूद रहे।

इस मौके पर इंद्रभान सिंह इंदू ने कहा कि जौनपुर की धरती हमेशा से ऋषि-मुनियों और पीर फकीरों की धरती रही है जहां पर समय के अनुसार वह शांति व सद्भाव व प्रेम व मानवता का संदेश देते रहे हैं आज भी इनके स्थानों से मानवता का संदेश जारी है। इस मौके पर रोजे के खादिम सवे आलम अजहरी ने हजरत रहीम शाह रहमतुल्ला के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि आज से लगभग 700 वर्ष पूर्व चिश्तिया सिलसिले के यह महान व पहुंचे हुए सिद्धि पुरुष थे आपने समाज के लिए अपना जीवन न्योछावर कर दिया और हमेशा ईश्वर की तपस्या में लीन रहते थे इस वजह से इनके चेहरे पर सूर्य के प्रकाश की तरह एक तेज अवतरित हो गया था और इनकी आंखें हमेशा लाल रहा करती थी जिससे आम इंसान इनके चेहरे की तरफ नहीं देख पाता था और यह हमेशा ईश्वर की तपस्या में लीन रहते थे। दूर-दूर से लोग इनके आस्ताने पर इन से दर्श हासिल करने के लिए आया करते थे।

उर्स मुबारक के मौके पर रात भर नात व कव्वाली का शमा विभिन्न कव्वालो और नात खाना ने शमा बांधा जिसमें दूर-दूर से आए हुए श्रद्धाल और जायरीन झूम उठे। दूर-दूर से आये जायरीनों ने अपनी श्रद्धा सुमन अर्पित कर रोजे मुबारक पर चादर चढ़ाई और मन्नतें मांगी। इस मौके पर मुख्य रूप से आरिफ हबीब, रियाजुल हक, ताज मोहम्मद, मनीष सिह, एम एच सिद्दीकी, अखलाक, शेराज, इस्तकबाल कुरैशी, जाती हबीब, गुड्डू मौर्य, अब्दुल जब्बार, मुन्ना चिश्ती, नज्में आलम, जीशान हैदर, सोनू चिश्ती, साहिल अज्मे आलम, तालीब, चांद सरफराज, अरशदे आलम आदि लोग मौजूद रहे।
Feb 26, 2021

Previous articleजौनपुर : मनबढ़ चचेरे भाई ने भाई को मारा देशी बम, भाई घायल
Next articleआजमगढ़ : शेख बदरुद्दीन आज़मी मेमोरियल वेलफेयर चैरिटेबल ट्रस्ट के तत्वावधान में निशुल्क चिकित्सा शिविर आयोजित
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏