जौनपुर : नहीं रहे सैकड़ों बच्चों का भविष्य संवारने वाले शिक्षक राममहंथ पांडेय

जौनपुर : नहीं रहे सैकड़ों बच्चों का भविष्य संवारने वाले शिक्षक राममहंथ पांडेय

खुटहन।
मुलायम सोनी
तहलका 24×7
                  माता-पिता के बाद बच्चों के जीवन में सबसे ज्यादा प्रभाव उसके शिक्षक का पड़ता है। बच्चा अपने शिक्षक को अपने जीवन का प्रेरणास्रोत मानता है। यही कारण है कि अच्छे शिक्षकों को उनके जीवन पर्यंत सम्मान मिलता रहता है।

महमदपुर गुलरा गांव में जन्मे ऐसे आदर्श शिक्षक पंडित राममहंथ पांडेय ने शुक्रवार को 84 वर्ष की उम्र में अंतिम सांस ली। उनके निधन की खबर मिलते ही क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई। प्राथमिक शिक्षक के रूप में स्व पांडेय द्वारा दी गई उत्कृष्ट शिक्षा के चलते आज उनके पढ़ाए सैकड़ों छात्र महत्वपूर्ण पदों पर काम कर रहे हैं। सात्विक जीवन और उच्च विचार रखने वाले पंडितजी धार्मिक विषयों में गहरी जानकारी रखती थे। उनके निधन पर डॉ श्रीपाल पांडेय, कृष्णदेव दुबे, सत्यनारायण तिवारी, अनिल दुबे, सुभाष दुबे, अमरनाथ तिवारी, सदापति तिवारी, शेषमणि तिवारी, दयाराम उपाध्याय, श्रवण तिवारी समेत अनेक क्षेत्रीय लोगों ने गहरा दुख प्रकट किया है। उनका अंतिम संस्कार घर के पास स्थित गोमती नदी के किनारे किया गया। उनके इकलौते पुत्र सरपंच कैलाशनाथ पांडे ने मुखाग्नि दी।
Previous articleजौनपुर : गर्भवतियों की गोदभराई कर वितरित की गई स्वास्थ्य वर्धक सामग्रियां
Next articleजौनपुर : आईएमए ने किया वानर सेना के रक्तवीरों को सम्मानित
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏