जौनपुर : पीयू की प्रो. वंदना राय का शिक्षकश्री पुरस्कार के लिए चयन

जौनपुर : पीयू की प्रो. वंदना राय का शिक्षकश्री पुरस्कार के लिए चयन

# विश्वविद्यालय की कुलपति समेत शिक्षकों ने दी बधाई

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
                  उत्तर प्रदेश शासन के उच्च शिक्षा विभाग द्वारा उच्च शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिए वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय जौनपुर के बायोटेक्नोलॉजी विभाग की प्रोफेसर वंदना राय का शिक्षकश्री पुरस्कार 2020 के लिए चयन किया गया है। यह घोषणा शिक्षक दिवस के अवसर पर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री एवं उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने की। प्रो. राय विज्ञान संकाय की वरिष्ठतम प्रोफेसर है व पूर्व संकायाध्यक्ष, विज्ञान संकाय व पूर्व विभागाध्यक्ष बायोटेक्नोलॉजी विभाग भी रही हैं।

प्रोफेसर वंदना राय, को उनके द्वारा मानव स्वास्थ्य से जुड़ी शोध व ह्यूमन मॉलिक्युलर जेनेटिक्स में पिछले बीस वर्षों से भी अधिक समय से किये जा रहे शोध व ग्रामीण जनता को अनुवांशिक व अन्य रोगों, फोलिक एसिड के महत्व व अच्छे स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने के लिए 2019 में इंदौर में आयोजित इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस ऑन रिसेंट एडवांसेज इन लाइफ साइंसेज फॉर बेटरमेन्ट ऑफ एनवायरनमेंट एंड ह्यूमन हेल्थ 2019 में बेस्ट साइंटिस्ट के अवार्ड से भी सम्मानित किया गया है।
प्रो. वंदना राय पिछले 20 वर्षों से भी अधिक समय से मानव स्वास्थ्य पर एमटीएचएफआर, एमटीआरआर, कोम्ट, वीडीआर, डीआर डी2, एनक्यू ओ1 जीन्स व उससे जुड़े अनुवांशिक व अन्य रोगों पर शोध कर रही है। प्रो. राय के चार शोध पत्रों को यूके की साइंटिफिक एडवाइजरी कमेटी ऑन न्यूट्रिशन ने खाद्य पदार्थों व आटे में फोलिक एसिड फोर्टीफिकेशन के लिए अपनी संस्तुतियों में शामिल किया है। प्रोफेसर राय के विभिन्न अंतर्राष्ट्रीय जर्नलों में 120 शोध पत्र व चार पुस्तकें भी प्रकाशित हो चुकी है l प्रोफेसर राय ने देश व विदेश मे आयोजित विभिन्न राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों में में भाग लिया है एवं 100 से अधिक शोध पत्रों को प्रस्तुत कर चुकी हैं।
प्रो. राय पूर्वांचल विश्वविद्यालय की महिला अध्ययन केंद्र, महिला सेल, सेक्सुअल हैरेसमेंट कमेटी, पीयू कैट की अध्यक्ष समेत कई महत्वपूर्ण कमेटी में नामित है। शिक्षक दिवस के अवसर पर शिक्षकश्री पुरस्कार के लिए प्रोफ़ेसर राय के चयन पर विश्वविद्यालय की कुलपति प्रोफ़ेसर निर्मला एस. मौर्य ने प्रसन्नता जाहिर की है। उन्होंने कहा कि शिक्षकों के काम के आधार पर जो पुरस्कार मिलता है उससे विश्वविद्यालय का गौरव और सम्मान बढ़ता है। उन्होंने कहा कि इस सम्मान से विश्वविद्यालय की प्रतिष्ठा बढ़ी है।
इस अवसर शिक्षकश्री पुरस्कार के लिए चयन पर विश्वविद्यालय के वित्त अधिकारी संजय राय, कुलसचिव महेंद्र कुमार, सहायक कुलसचिव बबीता सिंह, अमृत लाल, दीपक सिंह, प्रो. मानस पांडेय, प्रो. अजय द्विवेदी, प्रो. अविनाश पाथर्डीकर, प्रो. राम नारायण, प्रो. अजय प्रताप सिंह, प्रो. राजेश शर्मा, प्रो. एके श्रीवास्तव, डॉ. प्रदीप कुमार, डॉ. संतोष कुमार, ‌प्रो. देवराज सिंह, डॉ मनोज मिश्र, डा. नूपूर तिवारी, डॉ रजनीश भास्कर, डॉ. मनीष कुमार गुप्ता, डॉ. जान्हवी श्रीवास्तव, डॉ. अन्नू त्यागी, डॉ. संजीव गंगवार, डॉ. प्रमोद यादव, डॉ. एसपी तिवारी, डॉ. सुनील कुमार, डॉ गिरधर मिश्र, डॉ मनोज कुमार पांडेय, डॉ. झाँसी मिश्रा आदि शिक्षकों ने बधाई दी।
Previous articleजौनपुर : हत्या के प्रयास में वांछित 02 अभियुक्तों को केराकत पुलिस ने किया गिरफ्तार
Next articleजौनपुर : मूल्यांकन समापन की ओर, हिंदी के 300 परीक्षकों ने जांची कॉपियां
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏