जौनपुर : बाबा साहब के विचारों को आगे बढ़ाने की जरुरत- आशीष अंशू

जौनपुर : बाबा साहब के विचारों को आगे बढ़ाने की जरुरत- आशीष अंशू

# राजकीय महिला महाविद्यालय में दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी संपन्न

शाहगंज।
राजकुमार अश्क
तहलका 24×7
              पूर्वांचल विश्व विद्यालय जौनपुर से सम्बद्ध नगर के कोरवलिया ग्राम में स्थित राजकीय महिला महाविद्यालय की स्थापना हुए महज़ कुछ ही वर्ष हुए हैं इतने अल्पकालिक समय में महाविद्यालय ने अपनी एक अलग ही पहचान बना ली है। इसी क्रम में “राष्ट्र निर्माण और विकास में डॉ. अंबेडकर का वैचारिक अवदान” विषय पर दो दिवसीय राष्ट्रीय गोष्ठी का समापन शनिवार को हुआ।


दूसरे दिन गोष्ठी को संबोधित करते हुए पिथौरगढ़ उत्तराखंड से पधारे असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. आशीष अंशू ने अंबेडकर दर्शन पर विस्तृत चर्चा की। उन्होंने अपने विचार प्रकट करते हुए कहा कि डॉ. अंबेडकर ने दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिलाओं को मुख्य धारा में लाने के लिए पूरा जीवन संघर्ष किया। इलाहाबाद विश्वविद्यालय से आए असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. भूरेलाल ने अपने संबोधन में कहा कि ऐतिहासिक, सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक संघर्षों के अंबेडकर के विचार को आगे बढ़ाने की महती आवश्यकता है। उन्होने स्वतन्त्र चिंतन एवं इतिहास निर्माण पर विशेष बल दिया। गोष्ठी को वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजना के समन्यवक डॉ राकेश यादव ने भी सम्बोधित करते हुए कहा कि डॉ अम्बेडकर एक दलित होते हुए भी समाज में अपनी अलग पहचान बनाई। राम अवध पीजी कालेज के सेवानिवृत्त प्राचार्य डॉ. मनराज शास्त्री ने डॉ अम्बेडकर के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि बाबा साहेब 64 भाषाओं के ज्ञाता थे वे रजनीतिक सामाजिक आर्थिक चिन्तक होने के साथ साथ कानून के विशेषज्ञ भी थे वे कहते थे मैं समाज की उन्नति का पैमाना इससे मानता हूँ कि उस समाज की स्त्रियों ने कितनी उन्नति की है।

महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. नूर तलअत ने अपने अध्यक्षीय भाषण में कहा कि मैं सभी उपस्थित लोगों की आभारी हूँ जिन्होंने अपना बहुमूल्य समय निकाल कर हमारे इस कार्यक्रम को सफल बनाया। मगर इसकी सफलता तभी सार्थक होगी जब हम सब बाबा साहेब अम्बेडकर के जीवन से कुछ सीखने का प्रयास करेगें। कार्यक्रम का संचालन संजय कुमार वर्मा ने किया। गोष्ठी में डॉ. संदीप यादव, प्रोफेसर अखिलेश, डॉ. रवि प्रकाश, डॉ. मोती चंद, डॉ. संजय कुमार समेत चिंतक व शोधार्थी मौजूद रहे। इस अवसर पर डॉ पूजा गुप्ता, डॉ सतेंद्र कुमार, डॉ शिखा त्रिगुणायत, डॉ सर्वजीत, डॉ मोती चन्द्र, राजमौली मिश्र, संतोष कुमार, अनुराग, बालयोगी करन “गुरू” आदि गणमान्य लोग उपस्थित होकर कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई।
Mar 20, 2021

Previous articleउत्तर प्रदेश राज्य मुख्यालय मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति का चुनाव कल…
Next articleजौनपुर : सडक दुर्घटना में चार लोग गम्भीर रूप घायल
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏