जौनपुर : बढ़ी परेशानी.. अस्पताल में ओपीडी बंद होने से भटक रहे मरीज

जौनपुर : बढ़ी परेशानी.. अस्पताल में ओपीडी बंद होने से भटक रहे मरीज

# बिना इलाज लौट रहे दूर- दराज के आए बीमार

खुटहन।
मुलायम सोनी
तहलका 24×7
                  स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ओपीडी सेवा बन्द किए जाने से ग्रामीणांचल की स्वास्थ्य सेवा बेपटरी हो गई हैं। सीएचसी में आकस्मिक सेवा 24 घण्टे नहीं मिल रही हैं और अन्दर प्रवेश के पहले कोरोना जाँच अनिवार्य कर दिया गया। ऐसे में बदलते मौसम में गर्मी व धूप आदि से लगभग हर गांव में सर्दी बुखार, दर्द आदि बीमारी से पीड़ित मरीज निजी चिकित्सकों के यहां इलाज कराने के लिए मजबूर हैं।

 

सोमवार को इशरावती, लालमणि, जगदम्बा आदि बुखार से पीड़ित मरीज सीएचसी गेट तक पहुँचे लेकिन कोरोना जाँच के डर से बाहर निकल लिए और निजी चिकित्सकों से इलाज करा कर घर लौटे। इस तरह प्रतिदिन सौ से सवा सौ मरीज निजी चिकित्सकों के शरण में पहुँच रहे हैं। इन मरीजों का इलाज निजी चिकित्सक कर रहे हैं ऐसे चिकित्सकों को न कोरोना का भय है न ही कोई इन्हें टोकने वाला हैं। स्थानीय ग्रामीणों की मानें तो स्थानीय कस्बा रसूलपुर, पट्टी नरेन्द्रपुर, गायत्रीनगर, गभीरन, गौसपुर, भिवरहा कलां, पटैला आदि स्थानों पर अधिकतर मेडिकल स्टोर वाले ही मरीजों का खेवन हार बन गए हैं। सीएचसी अधीक्षक डॉ राजेश रावत का कहना हैं कि मुख्य चिकित्साधिकारी के दिशा निर्देश पर ओपीडी बंद किया गया।

# झोलाछाप के यहां उमड़ रही भीड़

खुटहन सीएचसी में ओपीडी सेवा बंद होने से अप्रशिक्षित और बिना डिग्री के इलाज करने वाले झोलाछाप चिकित्सकों के यहां मरीजों की भीड़ उमड़ रही हैं। सूत्रों की मानें तो स्थानीय कस्बा में ही आधा दर्जन से अधिक झोलाछाप हैं। लगभग हर बाजार में और गांव में झोलाछाप चिकित्सक मौजूद हैं जो अनुभव के आधार पर इलाज करते हैं। इस समय ऐसे चिकित्सकों के यहां भारी भीड़ देखी जा रही हैं। इन चिकित्सकों के यहां मरीजों का जमकर आर्थिक शोषण किया जा रहा हैं।

# नीम हकीमों की कट रही है चांदी

कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए शासन ने सरकारी अस्पतालों ने ओपीडी सेवाएं बंद कर दी जिससे गांव गिरांव के मरीज मजबूरन नीम- हकीमों से अपना इलाज करा रहे हैं। इस समय नीम- हकीमों व झोलाछाप चिकित्सकों के पास इलाज के लिए ग्रामीणों की भीड़ उमड़ रही हैं। जिससे ग्रामीणों के जेब पर अतिरिक्त बोझ पड़ रहा हैं और नीम हकीमों की चाँदी कट रही हैं।
Apr 22, 2021

Previous articleमां की मौत से दुखी बेटी ने चौथी मंजिल से लगाई छलांग
Next articleजौनपुर : हृदयाघात से समाजसेवी की मां का निधन
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏