जौनपुर : मदिरा के शौकीनों के मतलब की खबर…

जौनपुर : मदिरा के शौकीनों के मतलब की खबर…

# सुरा के शौकीन अब घरों पर रख सकेंगें निर्धारित मात्रा के अनुसार शराब

# शादी-समारोह में मदिरापान के लिए लेना होगा एक दिन का लाइसेंस

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
                           कोरोना काल में शराब की बिक्री पर प्रतिबन्ध लगने के कारण लोगों को घरों में शराब रखने में परेशानी हो रही थी। जिसके तहत उत्तर प्रदेश शासन के आदेश के क्रम में आबकारी विभाग द्वारा निजी प्रयोग हेतु शराब की फुटकर बिक्री की सीमा निर्धारित की गयी है। अब कोई व्यक्ति एक समय में देशी शराब सादा व मसाला 200 एम. एल. की 05 बोतल अथवा विदेशी मदिरा भारत में भरी हुई 1.5 लीटर, समुन्द्रपार आयातित विदेशी मदिरा 1.5 लीटर, वाइन 2.00 लीटर, बीयर 6.00 लीटर से अधिक अपने अभिरक्षा में नहीं रख सकेगें।
इससे अधिक शराब को निजी कब्जे में रखने हेतु आबकारी विभाग से होम लाइसेंस लेने का प्रावधान किया गया है। जिसकी वार्षिक लाइसेंस फीस रूपये-12000 तथा प्रतिभूति धनराशि रूपये 51000 निर्धारित किया गया है। विफलता की स्थिति में संवंधित व्यक्ति के विरूद्व संयुक्त प्रान्त आबकारी अधिनियम 1910 की धारा-60 के अन्तर्गत कार्यवाही की जायेगी जिसमें 03 वर्ष तक का कारावास और शराब में सन्निहित प्रतिफल शुल्क के 10 गुने तक अथवा रूपये 2000 से अधिक का अर्थदण्ड की सजा हो सकती है।
इसके अतिरिक्त भारतीय दण्ड संहिता के अन्तर्गत कार्यवाही की जा सकती है। इस प्रकार निजी प्रयोग हेतु व्यक्तियों को निर्धारित फुटकर सीमा से अधिक मदिरा का क्रय, परिवहन एवं निजी कब्जे में रखने हेतु विभाग द्वारा एक वर्ष का लाइसेंस दिया जायेगा जिसमें परिवार के सदस्य, रिश्तेदार, अतिथि एवं मित्र जो वयस्क हो लाइसेंस धारक के घर बिना किसी प्रकार का भुगतान किये मदिरा पान कर सकेगें। इसके लिए 05 वर्षो से आयकर दाता एवं 21 वर्ष से अधिक के उम्र के व्यक्ति पात्र होगें।
    इसके अतिरिक्त आबकारी विभाग द्वारा किसी समारोह में मदिरा पान की सुविधा उपलब्ध कराने हेतु एक दिवस का लाइसेंस जारी किये जाने का प्रावधान किया गया है। उक्त लाइसेंस के लिए आनलाईन आवेदन कर तत्काल प्राप्त किया जा सकता है। इस हेतु किसी भी कार्य दिवस में कार्यालय जिला आबकारी अधिकारी, जौनपुर से सम्पर्क किया जा सकता है। जॉच के दौरान यदि किसी समारोह में बिना लाइसेंस के मदिरा पान करते हुए पाया गया तो संवंधित होटल/ रेस्टोरेन्ट/ मैरेज हाल एवं अन्य स्थलों के संचालकों के विरूद्व कड़ी कार्यवाही की जायेगी।
Previous articleजौनपुर : श्रीराम लीला समिति की प्रशासनिक बैठक आयोजित
Next articleपं. दीनदयाल उपाध्याय जी एक महान चिंतक व कुशल संगठनकर्ता थे- अमित श्रीवास्तव
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏