जौनपुर : मेड़कटवा किसानों के चलते ग्रामीणांचल की सड़कें खस्ताहाल

जौनपुर : मेड़कटवा किसानों के चलते ग्रामीणांचल की सड़कें खस्ताहाल

खुटहन।
मुलायम सोनी
तहलका 24×7
                विकास में सड़कों का विशेष महत्व होता है सड़कों के माध्यम से गांव आस-पास के शहरों या बड़े बाजारों से जुड़े होते हैं, जहां कृषि उत्पादनों की न सिर्फ खपत होती है अपितु दैनिक उपयोग की चीजों को ले जाने ले आने में सुगमता होती है। पिछले कुछ वर्षों से सरकारों ने ग्रामीणांचलों की सड़कों की दिशा में सराहनीय काम किया है। अच्छी सड़कें बन रही हैं, परंतु उनके रख-रखाव तथा अतिक्रमण की समस्या जस की तस बनी हुई है।
ग्रामीणांचलों की सड़कों की दोनों पटरियों पर लगातार फावड़े चल रहे हैं। परिणाम स्वरूप सड़कों का आकार सिमटता जा रहा है। मेड़कटवा संस्कृति के चलते सड़कों के किनारे कटते जा रहे हैं। यह हाल है गोमती नदी पुल के पास तिलवारी गांव से शाहगंज वाया प्रयागराज राजमार्ग से निकले ग्यारह किमी संपर्क मार्ग का है जो दर्जन भर गांवो को जोड़ता हुआ पुनः घनश्यामपुर बाजार में उसी राजमार्ग से जुड़ गया है।
लोक निर्माण विभाग के अधिकारी, प्रशासनिक अधिकारी, स्थानीय पुलिस बल यह सब देख कर भी आंखें मूंदे हुए हैं। ऐसे लोगों के खिलाफ यदि एक बार जुर्माना कर दिया जाए तो दोबारा वे सड़कों की शक्ल बिगाड़ने का प्रयास नहीं करेंगे। यह सड़क तिलवारी गांव से निकल बड़सरा, सुतौली, सियरावासी, महमदपुर, गुलरा, शाहपुर सानी, गोपालापुर, सम्मनपुर, शाहपुर सानी, अहियापुर, बड़ेरी, पटखौली आदि गांवों को जोड़ते हुए घनश्यामपुर बाजार में मुख्य सड़क में आकर मिल जाती है। इस सड़क पर मेड़कटवा संस्कृति की अपार कृपा है। 

Earn Money Online

Previous articleजौनपुर : तहसील कैंपस से लेखपाल की बाइक चोरी
Next articleजौनपुर : मनोज बने राष्ट्रीय यादव संघ के जिलाध्यक्ष
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏