जौनपुर : राजेश की मुहिम लाई रंग, खुशी की मदद को लोगों ने बढ़ाये हाथ

जौनपुर : राजेश की मुहिम लाई रंग, खुशी की मदद को लोगों ने बढ़ाये हाथ

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
                  मैं अकेला ही चला था जानिब-ए- मंज़िल मगर, लोग साथ आते गए और कारवाँ बनता गया.. उक्त लाइनें चर्चित समाजसेवी राजेश कुमार पर एकदम सटीक बैठती है। कुछ ऐसा ही वाक्या गत सप्ताह हुआ जब लाइन बाजार की रहने वाली एक किशोरी खुशी जायसवाल दुर्भाग्यवश एक बाइक की चपेट में आकर गंभीर रूप से घायल हो गई है और उसके बाएं पैर कई जगह से टूट गया, उसका प्लीहा भी चोटिल हो गया और आंत भी फट गई। परिवार की आर्थिक स्थिति बहुत ज्यादा खराब होने के कारण उसके माता-पिता इलाज हेतु दर-दर भटक रहे थे किसी तरह से शहर के एक निजी अस्पताल में इलाज शुरू हुआ लेकिन आर्थिक स्थिति बहुत खराब होने की वजह से इलाज करवाने में बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा था।
जैसे ही इसकी जानकारी समाजसेवी राजेश को पता लगी वे फौरन अस्पताल में जाकर उस बेटी के इलाज हेतु स्वयं आर्थिक सहायता किया व सोशल मीडिया के माध्यम से तमाम समाजसेवियों से अपील किया। समाजसेवी राजेश का वीडियो जैसे ही सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो कई संस्था अध्यक्षों व अन्य लोगों ने स्वत: ही मदद के लिए हाथ बढाएं।धीरे-धीरे खुशी बिटिया की मदद करने वाले लोगों का तांता लग गया।
बताते चलें कि समाजसेवी राजेश कुमार विकलांगों, बूढ़ों, असहयोग, बीमारों, अर्ध विक्षिप्त, विक्षिप्त और दुर्घटनाग्रस्त लोगों की मदद करने के कारण हर समय जनपद में चर्चा में रहते हैं और वर्तमान समय में पूर्वांचल विश्वविद्यालय के व्यवसाय प्रबंधन विभाग में असिस्टेंट प्रोफ़ेसर हैं। समाजसेवी के आह्वान पर मदद करने वालों में प्रमुख रूप से सर्वेश जायसवाल, जय किशन साहू, दिलीप सिंह, प्रदीप सिंह, शिवा सिंह, उद्योगपति ज्ञान प्रकाश सिंह, प्रदीप सिंह, रिंकू सिंह अजीत सोनकर, शशांक सिंह रानू और बैंककर्मी चंदन कुमार, दीपक श्रीवास्तव आदि रहे।
Previous articleजौनपुर : सोशल मीडिया पर सक्रियता से पेंशन आंदोलन होगा मजबूत- अभिनव राजपूत
Next articleजौनपुर : इंटर कॉलेज प्रवक्ता के निधन से क्षेत्र में शोक की लहर
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏