जौनपुर : राज कॉलेज में हिन्दी दिवस पखवाड़ा समारोह आयोजित

जौनपुर : राज कॉलेज में हिन्दी दिवस पखवाड़ा समारोह आयोजित

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
                राजा श्रीकृष्ण दत्त स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जौनपुर में हिन्दी विभाग के तत्वावधान में 13 सितम्बर 2021 से हिन्दी दिवस पखवाड़ा समारोह का शुभारंभ किया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ करते हुए मुख्य अतिथि प्राचार्य कैप्टन डाॅ. अखिलेश्वर शुक्ला ने सरस्वती प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वलित किया
हिन्दी दिवस के अवसर पर हिन्दी के महत्व को बताते हुए प्राचार्य कैप्टन डाॅ. अखिलेश्वर शुक्ला ने कहा कि विश्व का कोई भी देश जो विकसित हुआ है अपनी भाषा को अपना कर ही विकसित हुआ है। हमें अपनी संस्कृति, सभ्यता, परम्परा के साथ-साथ अपनी मातृभाषा को अपनाना होगा तभी हम प्रगति कर विकसित राष्ट्र का दर्जा प्राप्त कर सकेगें।
कार्यक्रम की विशिष्ट अतिथि डाॅ ज्योत्सना श्रीवास्तव एसो. प्रो. भौतिक विज्ञान ने कहा कि जो सम्मान संस्कृति और अपनापन हिन्दी बोलने से आता है वह अंग्रेजी में दूर-दूर तक दिखाई नहीं देता है।
कार्यक्रम की विशिष्ट अतिथि डाॅ सुनीता गुप्ता असि. प्रो. शिक्षा संकाय ने कहा कि हिन्दी भाषा इतनी समृद्धिशाली है कि अन्य कोई भाषा इतनी समृद्ध नहीं है। विशिष्ट अतिथि के रूप में डाॅ श्याम सुन्दर उपाध्याय ने कहा कि जिस देश को अपनी भाषा और साहित्य के गौरव का अनुभव नहीं है, वह उन्नति नहीं कर सकता।

मनोविज्ञान विभागाध्यक्ष डाॅ राजेन्द्र सिंह एवं अर्थशास्त्र विभागाध्यक्ष डाॅ लाल साहब यादव ने भी हिन्दी दिवस के अवसर पर हिन्दी भाषा पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम की सहयोगी हिन्दी विभाग की असि. प्रो. डाॅ रागिनी राय ने हिन्दी के महात्मय को बताते हुए कहा कि हिन्दी हमारी भावना को अभिव्यक्त करने का सरलतम स्रोत है। कार्यक्रम का संचालन करते हुए
हिन्दी विभाग की असि. प्रो. डाॅ मधु पाठक ने कहा कि अपनी मातृ भाषा को मित्र भाषा बनाये, मात्र भाषा बनाकर मृत भाषा न बनाये। हिन्दी भाषा प्रेम और आत्मीयता की भाषा है। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए हिन्दी विभागाध्यक्ष एवं मुख्य अुनशास्ता डाॅ सुधा सिंह ने कहा कि हिन्दी भाषा देश को सम्पर्क सूत्र में बांधने का एक सशक्त माध्यम है। हमारा संवाद विचार-विमर्श, पठन-पाठन एवं लेखन बेहिचक हिन्दी में होना चाहिए, इसमें किसी प्रकार की हीन भावना से ग्रसित होने की आवश्यकता नहीं है।
कार्यक्रम का संचालन डाॅ मधु पाठक व धन्यवाद डाॅ रागिनी राय ने ज्ञापित किया। इस अवसर पर डाॅ अनामिका सिंह, डाॅ नीता सिंह, डाॅ अनीता सिंह, डाॅ गगनप्रीत कौर, डाॅ गुन्जन मिश्रा, डाॅ नमिता श्रीवास्वत, डाॅ मनोज वत्स, डाॅ संतोष कुमार पाण्डेय, डाॅ अतुल श्रीवास्तव, डाॅ जितेन्द्र दूबे, डाॅ रजनीकांत द्विवेदी, डाॅ शैलेष पाठक, डाॅ आशीष कुमार शुक्ला सहित समस्त प्राध्यापक उपस्थित रहे।
Previous articleहिन्दी को किसी पर थोपने से पहले उसे अपनाइये…
Next articleजौनपुर के एक ही परिवार की तीन पीढ़ियाँ जुटी हैं हिंदी के विकास में…
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏