जौनपुर : राम-केवट संवाद की लीला देख दर्शक हुए भाव-विभोर

जौनपुर : राम-केवट संवाद की लीला देख दर्शक हुए भाव-विभोर

शाहगंज।
अनूप जायसवाल
तहलका 24×7
               बीबीगंज चौकी क्षेत्र के गोड़िला फाटक बाजार में श्री बजरंग नवयुवक रामलीला समिति के चौथे दिन मां सरस्वती की आरती के बाद श्रीराम लीला का मंचन शुरू किया गया। कलाकारों ने शुक्रवार की रात राम-केवट संवाद का मंचन किया पहले दृश्य में दिखाया गया कि भगवान राम माता-पिता की आज्ञा के पालन के लिए मां सीता व अनुज लक्ष्मण के साथ वन की ओर प्रस्थान करते हैं।यहां अयोध्यावासी उनका मार्ग रोककर विनती करते हैं कि प्रभु आपके वन चले जाने से अयोध्या की खुशियां समाप्त हो जाएंगी। भगवान राम सभी को समझाते हैं और मार्ग छोड़ने का अनुुरोध करते हैं।

दूसरे दृश्य में राम-केवट संवाद का कलाकारों ने मंचन कर दर्शकों का मन मोह लिया। इसमें दिखाया गया कि भगवान राम मंत्री सुमंत के साथ गंगा के तट पर पहुंचते हैं। वहां निषाद राज केवट से भगवान राम की मुलाकात होती है। केवट सभी का आदर सत्कार करता है। भगवान राम केवट से निवेदन करते हैं कि वह उन्हें अपनी नाव से नदी के उस पार कर दें। केवट कहता है कि प्रभु नदी उस पार करने में उसे कोई समस्या नहीं है। लेकिन वह यह सुनिश्चित कर लेना चाहता है कि क्या आप वही राम हो, जिनके चरणों की धूल में ऐसा प्रताप है कि उसके स्पर्श मात्र से पत्थर की शिला नारी बन जाती है। जिन्होंने जनकपुर के स्वयंवर में शिव धनुष को फूलों की भांति उठाकर तोड़ दिया क्या आप वही राम हैं।

 

केवट कहता है कि प्रभु आप की भगवंता जाने बगैर मैं आपको नदी के उस पार नहीं करूंगा। केवट की भक्ति को देख प्रभु राम मुस्कुरा देते हैं।वहीं केवट की इस चिकनी चुपड़ी बात को सुन लक्ष्मण क्रोधित हो उठते हैं। यह दृश्य देख श्रद्धालु भावविभोर हो गए। इस मंचन के दौरान रामलीला कमेटी के अध्यक्ष रोहित गुप्ता, निर्देशक राजेश गुप्ता, रामशंकर गुप्ता, संतोष गुप्ता, कालीचरण गुप्ता, दुर्गाप्रसाद गुप्ता, सुरेश गुप्ता, पंकज गुप्ता, अनुप श्रीवास्तव, सोनू यादव, शशिकांत विश्वकर्मा, अनूप जायसवाल, सतेंद्र चौहान, विवेक यादव, पप्पू शर्मा आदि कलाकार मौजूद रहे।
Previous articleजौनपुर : आप कार्यकर्ताओं ने फूंका केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह का पुतला
Next articleजौनपुर : कनाडा से आई मां अन्नपूर्णा देवी की मूर्ति का जौनपुर में होगा भव्य स्वागत
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏