जौनपुर : रेल कर्मचारियों को कोरोना योद्धा घोषित करे सरकार- तुलसीराम यादव

जौनपुर : रेल कर्मचारियों को कोरोना योद्धा घोषित करे सरकार- तुलसीराम यादव

कर्मचारियों का DA/DR एरियर सहित शीघ्र भुगतान हो- अखिलेश यादव

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
               इंडियन रेलवे एम्प्लाईज फेडरेशन के आह्वान पर नॉर्दर्न रेलवे एम्प्लाईज यूनियन (NREU) ने शुक्रवार को लखनऊ मण्डल के जौनपुर सिटी, सुल्तानपुर, शाहगंज स्टेशन पर भारत सरकार/ रेल प्रशासन के विरुद्ध जमकर नारेबाजी करते हुए विरोध दिवस मनाया।

नॉर्दर्न रेलवे एम्प्लाईज यूनियन के लखनऊ मण्डल मंत्री कॉम. तुलसीराम यादव ने कहा कि रेलवे फेडरेशन IREF के आह्वान पर समस्त रेलवे में कर्मचारियों की ज्वलंत मुद्दों को लेकर विरोध प्रदर्शन किया गया है जिसमें मुख्यतः सभी रेल कर्मचारियों को कोरोना योद्धा घोषित करने, सभी रेल कर्मचारियों का 50 लाख रुपये का बीमा करने, मार्च 2020 के बाद मृतक रेल कर्मचारियों के परिवारों को 50 लाख रुपये एक्स- ग्रेसिया का भुगतान करने, NPS को तुरंत रद्द कर पुरानी पेंशन योजना बहाल करके PFRDA के पास जमा राशि कर्मचारी को वापिस करने, महंगाई भत्ते की बकाया सभी किस्तें जारी करने, रात्रि ड्यूटी भत्ते पर रु 43600/ की लिमिट हटाने, भारतीय रेलवे का निजीकरण बंद करने आदि मांगो को लेकर समस्त रेलवे में 25 मई 2021 को राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन कर भारत सरकार/ रेलवे प्रशासन को चेतावनी दी गई।

नार्दर्न रेलवे इम्प्लाइज यूनियन के अतिरिक्त मण्डल सचिव कॉम. अखिलेश यादव ने कहा कि कोविड-19 की महामारी के दौरान दिन-रात अपनी जान जोखिम में डालकर फ्रंट लाइन वर्कर के रूप में भारतीय रेलवे का संचालन व रखरखाव किया है। इस दौरान लगभग दौ हजार रेल कर्मचारी अपनी जान गंवा चुके हैं। देश सेवा कर रहे लगभग 12 लाख कर्मचारियों ने जब 25 मार्च 2020 के बाद पूरा देश थम गया था लेकिन रेलवे नहीं थमने दी।
दिन-रात लगातार देश के हर कोने में ऑक्सीजन, अनाज, दवाइयां और ऊर्जा संबंधित जरूरत का सामान पहुंचा रहे हैं। यह सब होने के बावजूद भी रेल कर्मचारियों की अनदेखी हो रही है। इसलिए मजबूरीवश हमें संघर्ष का रास्ता अख्तियार करना पड़ रहा है, उन्होंने कहा कि यह केवल चेतावनी है अगर इसके बाद भी हमारी मांगे नहीं मानी गई तो इस संघर्ष को जन संघर्ष बनाने के लिए हम मजबूर हो जाएंगे।

नॉर्दर्न रेलवे एम्प्लाईज यूनियन के सुल्तानपुर शाखा मंत्री का. हरिओम शर्मा ने कहा कि यह तो केवल ट्रेल रिहर्सल है, अगर सरकार जल्द ही कर्मचारियों को उनका वाज़िब हक़ उनका डेढ़ सालों से रुका हुआ महंगाई भत्ते को एरियर सहित भुगतान नही करती तो संगठन शीघ्र कड़े कदम उठाएगी। कॉम. हरिओम शर्मा ने कहा कि ये सरकार आम जनता या कर्मचारियों की नहीं बल्कि कॉरपोरेट घरानों के लिए कार्य कर रही है। प्रतिदिन सरकारी संपत्तियों को बेचा जा रहा है।
ये सरकार अपने स्वयं के स्वार्थ सिद्ध में इतनी गूंगी और अंधी हो गयी है कि उसे कर्मचारियों का शोषण नहीं दिख रहा। कोरोना में सरकार ने अपनी गिरती आर्थिक डर का हवाला देकर कर्मचारियों का महंगाई भत्ता को डेढ़ साल के लिए फ्रीज़ कर दिया। इस विकट परिस्थिति में भी सभी रेल कर्मचारी अपनी जान की परवाह ना करते हुए अपनी रेल सेवा के प्रति कर्तब्यों का पालन किया। हजारो रेल कर्मचारियों ने कोरोना से चिकित्सीय अभाव में अपनी जान दे दी। यूनियन ये मांग करती है कि सभी रेल कर्मचारियों को कोरोना वारियर्स घोषित करने के साथ साथ सभी मृतक कर्मचारियों को 50-50 लाख रुपये की सहायता राशि अतिशीघ्र जारी करे। जिससे उनके परिवार का समुचित रूप लालन पालन हो सके।

इस मौके पर सुल्तानपुर शाखा अध्यक्ष कॉम. अमित केशरी, सहायक मण्डल सचिव कॉम. अजय कुमार, बृजेश यादव, संजय यादव, अजय दुबे, बृजकिशोर, बृजेश कुमार, इत्यादि साथी मौजूद रहें।
Previous articleजौनपुर : एक वर्ष पूर्व युवक की संदिग्ध मौत के मामले में जांच को पहुँचें आईजी
Next articleजौनपुर : पुलिस ने गैंगस्टर एक्ट में वांछित एक अभियुक्त को किया गिरफ्तार
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏