जौनपुर : लंबित पड़े भुगतान को लेकर ब्लॉक का चक्कर लगा रहे हैं पीड़ित परिजन

जौनपुर : लंबित पड़े भुगतान को लेकर ब्लॉक का चक्कर लगा रहे हैं पीड़ित परिजन

# कोरोना की चपेट में आने से पूर्व प्रधान की हुई मौत, सीएम से लगाई न्याय की गुहार

चंदवक।
विनोद कुमार
तहलका 24×7
               देश में वैश्विक महामारी कोरोना अपना पांव पूरी तरह से पसार चुका था देश मे लॉकडाउन लगा हुआ था लोग शहरों से गॉवो की तरफ तेजी से पलायन कर रहे थे। ऐसे में सबसे बड़ी जिम्मेदारी थी कि कोरोना की कहर से कैसे गॉवो को बचाया जा सके प्रदेश सरकार के दिशा-निर्देश पर गॉवो को कोरोना से बचने के लिए ग्राम प्रधान को जिम्मेदारी दी गयी ग्राम प्रधानों ने पूरी जिम्मेदारी से अपने कर्तव्यों को निर्वाहन किये कई ग्राम प्रधान भी कोरोना की चपेट आ गए।डोभी विकास खण्ड अन्तर्गत तरांव ग्राम सभा मे भी कोरोना ने जब अपना पांव पसारना शुरू किया तो ग्राम प्रधान दिलीप कुमार जायसवाल ने भी अपनी नैतिक जिम्मेदारी को समझते हुए गॉव को कोरोना मुक्त कराने में जुट थे।

गॉव वालो की मदद से प्रयास सफल भी रहा परन्तु नियति को कुछ और ही मंजूर था कुछ दिनों के बाद ग्राम प्रधान दिलीप कुमार जायसवाल की कोरोना के चलते 12 मई 2021 को निधन हो गया परिवार पर दुखो का पहाड़ छा गया। परिवार पर कुदरत के कहर के साथ साथ गॉवो मे कराये गए पुराने कार्यकाल में विकास कार्यो का भुगतान न होने से बकायदारों के भी दबाव से पीड़ित परिवार मानसिक तनावों से जूझ रहा है।ऐसे में पीड़ित परिवार डोभी ब्लॉक का चक्कर काटने को मजबूर हैं जबकि पीड़ित अपनी लिखित शिकायत जब खण्ड विकास अधिकारी सीएल गुप्ता को दिए तो खण्ड विकास अधिकारी बिना देरी किये जांच के आदेश दिए जांच करने गए एडीओ पंचायत अजित कुमार व जेई मिथिलेश कुमार ने जांच के उपरांत कराये गए कार्यो को पूर्ण पाया गया जिसकी आख्या की कॉपी व जेई मिथिलेश कुमार द्वारा की गई एमबी की फ़ाइल, प्रधानाध्यापक द्वारा कार्य की प्रमाणित कागजाद इत्यादि साक्ष्य के साथ पीड़ित महीनों से ब्लॉक का चक्कर लगा रहा।

जब भी पीड़ित परिवार अपनी शिकायत ग्राम विकास अधिकारी अमित सिंह व उच्चाधिकारियों से बताते हैं तो अधिकारी ये बता कर वापस कर देते है कि ग्राम पंचायत के खाते में पैसा ही नही है। अगर ग्राम पंचायत के खाते में पैसा नही है तो कैसे ग्राम विकास अधिकारी अमित सिंह के द्वारा नए कार्यो का भुगतान किया जा रहा है?क्या जान बूझ कर नाहक ही पीड़ित परिवार को परेशान किया जा रहा है कही ना कही ग्राम विकास अधिकारी के कार्यशैली पर सावलिया निशान खड़े कर रहे हैं बहरहाल कब औऱ कैसे लम्बित पड़े भुगतान का भुगतान किया जाएगा ये तो जिम्मेदार ही तय करेंगे वहीं स्व. ग्राम प्रधान दिलीप कुमार जायसवाल के दो बेटी एक छोटा बेटा व पत्नी सहित परिवार मानसिक तनाव से जूझ रहे है। थक हार कर पीड़ित परिवार जनसुनवाई पोर्टल पर अपनी शिकायत दर्ज कर शासन से न्याय की गुहार लगाई।
Previous articleजौनपुर : तीनों ‌वैज्ञानिक शिक्षकों को कुलपति ने किया सम्मानित
Next articleजौनपुर : शिविर लगाकर की गई ढ़ाई लाख रुपये की वसूली
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏