जौनपुर : विश्व स्तनपान सप्ताह ! बैठक कर आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों को किया गया जागरूक

जौनपुर : विश्व स्तनपान सप्ताह ! बैठक कर आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों को किया गया जागरूक

खेतासराय।
अज़ीम सिद्दीकी
तहलका 24×7
               बाल विकास परियोजना कार्यालय खेतासराय में विश्व स्तनपान सप्ताह के अंतर्गत एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों का क्षमता वर्धन करते हुए यसयमनेट यूनिसेफ के बीएमसी अवधेश कुमार तिवारी ने बताया कि जन्म के एक घंटे के अन्दर बच्चे को मां का पहला पीला गाढ़ा दूध देना बहुत जरूरी है। जिससे बच्चे को अनेक बीमारियों से बचाया जा सकता है। छ: माह तक केवल मां का दूध ही बच्चे को देना चाहिए। शहद, पानी, घुट्टी अन्य कुछ भी पेय पदार्थ या तरल पदार्थ नहीं देना चाहिए।

छह माह के बाद बच्चे को मां के दूध के साथ ऊपरी आहार देना बहुत जरूरी है। कम से कम 2 वर्ष तक बच्चे को स्तनपान कराना चाहिए। स्तनपान कराने से बच्चे को सर्वोत्तम पोषक तत्व मिलता है। बच्चे का सर्वोच्च मानसिक विकास में सहायक होता है। संक्रमण से सुरक्षा दस्त निमोनिया से बचाता है। दमा एलर्जी से सुरक्षा करता है। शिशु को ठंड से बचाता है। मां को रक्त स्राव एनीमिया से बहु बचाता है। मां में मोटापा कम करता है और स्तन कैंसर का खतरा कम होता है आदि के विषय में विस्तार से जानकारी देते हुए इसके साथ दस्त नियंत्रण पखवारा के बारे में बताया गया कि इस समय बच्चों में दस्त का संक्रमण अधिक हो जाता है।
ऐसे बच्चों की पहचान कर उनके परिवार में हाथ धोने की विधि ओआरएस का घोल बनाने की विधि और नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर जांच हेतु भेजने के बारे में बताया गया। जिन बच्चे को दस्त हुआ है उन्हें ओआरएस का घोल और जिंक की गोली 14 दिन तक सेवन करना चाहिए। इस दौरान बाल विकास परियोजना अधिकारी भैयालाल यसयमनेट के बीएमसी अवधेश कुमार तिवारी, सुपरवाइजर श्यामा देवी, चमेला देवी, सुषमा देवी व उषा देवी सहित सैकड़ों आंगनवाड़ी कार्यकत्री उपस्थित रही।
Previous articleप्रदेश सरकार की भूगर्भ जल संरक्षण नीति से कृषि, पेयजल हेतु मिलेगा स्वच्छ जल
Next articleजौनपुर : चन्दवक में पुलिस और बदमाशों के बीच हुई मुठभेड़
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏