जौनपुर : शहीद उद्यान पार्क में कार्यरत माली को कई महीनों से नहीं मिला मानदेय

जौनपुर : शहीद उद्यान पार्क में कार्यरत माली को कई महीनों से नहीं मिला मानदेय

# लम्बित पड़े भुगतान को लेकर रोजगार सेवक सहित जेई तक लगाई गुहार

चंदवक।
विनोद कुमार
तहलका 24×7
              पूर्व जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह के निर्देशानुसार 45 गॉवो में मनरेगा पार्क बनवाये गए जिसकी देखरेख के लिए बाकायदा प्रशिक्षण दिलाकर मनरेगा के तहत माली की नियुक्ति तीन साल के लिए की गई। रोजगार सेवक हर महीने माली का मास्टर रोल तैयार कर के भुगतान करवाने की जिम्मेदारी दी गई थी लेकिन शहीद उद्यान पार्क में कार्यरत माली को कई महीनों से मानदेय नहीं मिला।

स्थानीय क्षेत्र के सेनापुर गॉव में बने शहीद उद्यान पार्क में माली के पद पर कार्यरत शिवकुमार को मिल रहे मानदेय पांच माह से नही मिला। जिसको लेकर माली शिवकुमार की हालत बद से बत्तर हो गई है माली से लम्बित पड़े भुगतान को लेकर जब बात की गई तो उन्होंने बताया कि 14 दिसम्बर से उद्यान पार्क में कार्यरत हुआ हूँ और 14 फरवरी तक का भुगतान हो गया है अभी पांच महीनों से लंबित पड़े भुगतान को लेकर रोजगार सेवक ब्रह्मदेव, पूर्व प्रधान रमेश कुमार, वर्तमान प्रधान अरविंद चौहान, ग्राम विकास अधिकारी आसिफ अंसारी व जेई विनीत कुमार तक अपनी गुहार लगा चुका हूँ पर सभी लोग एक दूसरे के ऊपर आरोप प्रत्यारोप लगाकर वापस लौटा देते हैं। आगामी 14 अगस्त को छः महीना हो जायेगा मैं अपने परिवार का भरण पोषण इसी के सहारे करते है। भुगतान न होने से जीवन यापन करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

इस बाबत जब पूर्व प्रधान रमेश कुमार से नियुक्त को लेकर टेलीफोनिक वार्ता की गई तो उन्होंने बताया कि पूर्व जिलाधिकारी के निर्देशानुसार पार्क में पौधों के देखरेख के लिए माली की नियुक्ति की गई फलस्वरूप आदेशित किया गया कि तीन साल का प्राकलन मनरेगा के तहत तकनीकी सहायक (जेई) के द्वारा तैयार कराकर माली के भुगतान का प्रति महीना रोजगार सेवक व ग्राम पंचायत अधिकारी के द्वारा मास्टर रोल निकलवाना व हाजिरी लगाकर फीड करवाना इनकी जिम्मेदारी होगी लेकिन कुछ महीने का भुगतान हुआ इसके बाद पांच महीना का भुगतान लंबित है अब पांच महीनों से ना तो मास्टर रोल का पता है और ना ही प्राकलन का पता है। अब पांच महीनों से रोजगार सेवक के द्वारा मास्टर रोल फिड करवाया गया है कि नहीं ये तो वही बताएंगे। लम्बित पड़े भुगतान का भुक्तभोगी आखिर कहां जाये, किससे कहे जबकि गॉव से लेकर ब्लॉक तक लम्बित पड़े भुगतान को लेकर आये दिन चर्चा की जाती बहरहाल कब और कैसे भुगतान होगा ये तो जिम्मेदार अधिकारी ही तय करेंगे ?
Previous articleजौनपुर : चोरी के सामान के साथ एक शातिर चोर को पुलिस ने किया गिरफ्तार
Next articleजौनपुर : दयानंद पासी बने महराजगंज प्रधान संघ के ब्लाक अध्यक्ष
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏