जौनपुर : शिक्षकों ने गोपनीय आख्या सहित 22 सूत्रीय मांगों को लेकर भरी हुंकार

जौनपुर : शिक्षकों ने गोपनीय आख्या सहित 22 सूत्रीय मांगों को लेकर भरी हुंकार

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
             उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के जनपदीय अध्यक्ष व प्रांतीय संगठन मंत्री अमित सिंह के नेतृत्व में परिषदीय शिक्षकों ने जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को शिक्षकों के मूल्यांकन के (गोपनीय आख्या) आदेश के विरोध सहित 22 सूत्रीय मांगों के संदर्भ में ज्ञापन दिया।

प्रांतीय संगठन मंत्री अमित सिंह ने कहा कि विगत 8 जनवरी को बेसिक शिक्षा परिषद विभाग द्वारा निर्देश दिया गया है कि परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों का मूल्यांकन कर “वार्षिक गोपनीय आख्या” ब्लाक/जनपद के अधिकारियों द्वारा विभाग को प्रेषित की जाएगी और इस गोपनीय आख्या के आधार पर ही शिक्षकों की वेतन वृद्धि व पदोन्नति की जाएगी। श्री सिंह ने कहा कि उपरोक्त आदेश पूर्ण रूप से अव्यवहारिक एवं शिक्षकों का शोषण करने वाला है, विभाग द्वारा जारी निर्देश के अनुसार विद्यालय में कायाकल्प के तहत होने वाले कार्यों के लिए भी अंक तय कर उनका उल्लेख शिक्षकों की गोपनीय आख्या में करने की व्यवस्था की गई है जो पूरी तरह से नियम विरुद्ध व अनुचित है, क्योंकि कायाकल्प के कार्य स्थानीय प्रधानों व पंचायती राज विभाग के द्वारा करवाए जाते हैं।

उन्होंने बताया कि उपरोक्त आदेश (काले कानून) को वापस लेने के लिए उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रांतीय अध्यक्ष सुशील पांडेय ने बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश चंद्र द्विवेदी को पत्र लिखकर मांग की लेकिन विभाग द्वारा अभी तक इस आदेश को वापस नहीं लिया गया। सरकार की शिथिलता को देखते हुए उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रांतीय अध्यक्ष सुशील पांडेय के आह्वान के क्रम में इस काले कानून के विरोध में तथा पुरानी पेंशन पदोन्नति जनपद के अंदर स्थानांतरण कैशलेस चिकित्सा सुविधा ई एल सुविधा सहित 22 सूत्रीय मांगों को लेकर आज प्रदेश के समस्त जनपदों में जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन देकर उनको शिक्षकों के रोष से अवगत कराते हुए अनुरोध किया गया है कि शिक्षकों को अपमानित करने वाले इस शिक्षक विरोधी आदेश को तत्काल वापस लिया जाय और इसी क्रम में आज जनपदीय कार्यसमिति के सदस्यों व समस्त ब्लॉक इकाई के अध्यक्ष/मंत्री के साथ जिलाधिकारी के महोदय से मुख्यमंत्री को ज्ञापन दिया गया।

इस अवसर पर पू. मा. शिक्षक संघ के जिलामंत्री मनीष सोमवंशी, प्राथमिक शिक्षक संघ के जनपदीय पदाधिकारी अश्वनी सिंह, शैलेंद्र सिंह, अर्चना सिंह, मंजू पांडे, राजेश सिंह टोनी, दिनेश मौर्या, ज्योति सिंह, संतोष बघेल, राजीव रत्नम तिवारी, राम सिंह राव, डॉ अनुज, अतुल सिंह, मृत्युंजय सिंह, सरोज कुमार सिंह, सतीश पाठक, मुन्नालाल यादव, स्वतंत्र कुमार, विनोद भंडारी, धीरज कश्यप, सुशील सिंह, डॉ गिरीश, डॉ शैलेश डॉ दिनेश, विशाल सिंह, ओमकार पाल, सुनील प्रजापति, दिवाकर चौहान, जय प्रकाश, अकील रहमान, प्रदीप सूर्या, जितेंद्र पटेल, सुभाष बिंद, रवि मिश्र, भूपेश सिंह, दिवाकर चौहान, अरविंद सिंह, मनोज सिंह, सुजीत सोनकर, रोहित सिंह, अजित सिंह, राकेश सिंह, संजय राय, साकेत सिंह, मोहम्मद अली, मुकेश दुबे, शशांक मिश्र, अमित मिश्रा, अमित चंदेल सहित सैकड़ों शिक्षक पदाधिकारी उपस्थित रहे।
Feb 04, 2021

Previous articleजौनपुर : वर्तमान सरकार में जनप्रतिनिधि ही नहीं है सुरक्षित तो आमजन की बात बेईमानी- चेयरमैन
Next articleजौनपुर : मजदूरों ने मजदूरी नहीं मिलने पर किया प्रधान का घेराव, अधिकारी मस्त मजदूर त्रस्त
तहलका24x7 की मुहिम..."सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏