जौनपुर : सरस्वती मंदिर से शिक्षा माफियाओं को हटा कर लूंगा दम- राजीव गुप्त   

जौनपुर : सरस्वती मंदिर से शिक्षा माफियाओं को हटा कर लूंगा दम- राजीव गुप्त   

# संस्थापक स्व. यमुना प्रसाद गुप्त की 123वीं जयंती मनाई गई संकल्प दिवस के रूप में

मुंगरा बादशाहपुर।
प्रियंका श्रीवास्तव
तहलका 24×7
                नगर स्थित हिन्दू इण्टर कालेज में स्व. यमुना प्रसाद गुप्त स्मृति सेवा समिति के तत्वावधान में सोमवार को संस्थापक स्व. यमुना प्रसाद गुप्त की 123वीं जयंती कालेज परिसर में संकल्प दिवस के रूप में मनाई गई। इस अवसर पर अतिथियों  सहित उपस्थित प्रबुद्ध जनों व शिक्षाविदों ने संस्थापक स्व. यमुना प्रसाद गुप्त की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर समारोह का शुभारंभ किया।

मुख्य वक्ता नगर व्यापार मंडल के अध्यक्ष व भाजपा युवा नेता राजीव गुप्त ने कहा कि शिक्षा मंदिर पर शिक्षा माफियाओं का पूर्णतया कब्जा हो गया है। जिसके चलते मां सरस्वती मंदिर वर्तमान कथित प्रबंधतंत्र के लिए सिर्फ कामधेनु बनकर सिमट गई है। उन्होंने कहा कि फर्जी ढंग से आई प्रबंधतंत्र को स्कूल परिसर से शिक्षा अधिकारियों ने बाहर नही किया तो इसका उन्हें भारी कीमत चुकानी पड़ेगी।

अब दिन आ गया है कि शिक्षा मंदिर को लूट खसोट करने वाले व बर्बाद करने वालों को बाहर निकाल कर दम लिया जाएगा। वक्ताओं ने संयुक्त उद्धबोधन में कहा कि जब क्षेत्र सहित दूर दराज तक शिक्षा के क्षेत्र में कोई संसाधन नहीं था तब  संस्थापक स्व. श्री गुप्त जी ने 25 वर्ष की अवस्था में मुंगरा बादशाहपुर में इस सरस्वती मंदिर की स्थापना ब्रिट्रिश हुकूमत के दौरान वर्ष 1923 में कर दिया।ऐसे मनीषी के कार्यक्रम में आकर हम सभी अपने को गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। आमंत्रण के लिए मैं संस्थापक के प्रपौत्र बृजेश कुमार गुप्त सहित परिजनों का आभारी हूं। सचमुच वे क्षेत्र के मदन मोहन मालवीय व शिक्षा जगत के एक आदर्श थे। आगे कहा कि उन्होंने शिक्षा मंदिर की स्थापना कर जो उपकार किया है उसे ता कयामत तक भुलाया नही जा सकता है।

विद्यालय के गरिमामयी इतिहास को बढ़ाते हुए कहा कि अतीत में पंडित जवाहरलाल नेहरू, पंडित मदन मोहन मालवीय सरीखे महापुरुषों के आगमन ने विद्यालय का गौरव बढ़ा दिया। जबकि वर्तमान कथित प्रबंधतंत्र लूट खसोट के आगे उस गरिमामयी इतिहास को धूल धूसरित करने को तुला है। विद्यालय की गौरव पूर्ण इतिहास का विस्तार करना व उनके पद चिन्हों पर चलना ही उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी। पूर्व में पैदल मार्च संस्थापक के आवास पुरानी सब्जी मंडी से निकल कर संस्थापक स्व. यमुना प्रसाद गुप्त अमर रहे का नारा लगाते हुए विद्यालय परिसर में पहुंच कर सभा में परिवर्तित हो गया। संचालन सालिकराम पटेल ने किया।

संयोजक पत्रकार बृजेश कुमार गुप्त व सहसंयोजक पत्रकार शुभम कुमार गुप्त ने आभार जताया। मुख्य रूप से पालिका अध्यक्ष शिवगोविंद साहू, राष्ट्रीय अध्यक्ष कुंवर धनंजय सिंह, भाजपा नगर मंडल उपाध्यक्ष आलोक कुमार गुप्त पिंटू, नगर व्यापार मंडल के अध्यक्ष आलोक कुमार गुप्त, वरिष्ठ पत्रकार बृजेश कुमार पाण्डेय, विश्वहिन्दू परिषद नगर अध्यक्ष जगदम्बा जायसवाल, बसपा नेता शैलेन्द्र साहू, भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष राजनाथ यादव, आरएसएस नगर कार्यवाह शिवकुमार गुप्त लल्ला, आरएसएस के आरके शर्मा, सुरेन्द्र चौरसिया, राकेश कुमार उमर वैश्य, उमर वैश्य समाज के नेता राजकुमार गुप्त, राजीव जायसवाल, सुभाष पटेल, वरिष्ठ सपा नेता भोला राम सरोज, रमाशंकर शुक्ल, धर्म राज पटेल, कमला भोज्यवाल, बाबूराम पटेल, नवल किशोर गुप्त, प्रधानाचार्य अनिल शुक्ला, पूर्व प्रधानाचार्य माता प्रसाद चौरसिया, भोलाराम शर्मा, सपा नेता परवेज लम्बू, फरहान, नगर कांग्रेस अध्यक्ष शहजादे, सपा नेता तमजीद, हिमकर पाण्डेय, पत्रकार रामकुमार गुप्त, विक्की मोदनवाल, त्रिपुरारी पटेल, अनिल विश्वकर्मा आदि रहे।
Feb 08, 2021

Previous articleजौनपुर : जहाँ नारी शक्ति की होती है पूजा वहां होता है देवताओं का वास- अनुपमा अग्रहरि
Next articleजौनपुर : खाद्य तेलों का 3 बार से अधिक प्रयोग न करने एवं स्वच्छता के संबंध में किया जागरूक
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏