जौनपुर : सिर्फ छलावा बनकर रह गया दो दिवसीय मेगा कैंप…

जौनपुर : सिर्फ छलावा बनकर रह गया दो दिवसीय मेगा कैंप…

# 856 आवेदकों में से एक को भी मिल सका ऋण

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
             स्वयं सहायता समूहों को आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से लगाया गया दो दिवसीय मेगा कैंप छलावा बनकर रह गया। 21 ब्लाकों के विभिन्न समूहों की ओर से प्राप्त 856 आवेदकों में से एक को भी ऋण नहीं मिल सका। इसके लिए बकायदा 25 व 26 अक्टूबर को मेगा कैंप का आयोजन तो किया गया, लेकिन जरूरतें किसी की भी पूरी नहीं हो सकीं।
यह स्थिति तब है जब शासन की ओर से हर हाल में समूहों को ऋण देने का निर्देश दिया गया था। समूहों की ओर से बकायदा इसके लिए आनलाइन आवेदन किया गया था लेकिन आवेदन अस्वीकृत करने की स्थिति में बैंकों की ओर से किसी प्रकार का कारण भी स्पष्ट नहीं किया गया। ऋण प्राप्त करने के लिए यूबीआई में सबसे अधिक 584 आवेदन प्राप्त हुए थे। इसके बाद बड़ौदा यूपी बैंक में 247, पीएनबी में आठ, एसबीआइ में 13 व सीबीआई में तीन आवेदन प्राप्त हुए, जबकि इलाहाबाद बैंक को एक आवेदन प्राप्त हुआ।

# दो दिनों का लगाया गया था मेगा कैंप

25 अक्टूबर को सभी ब्लाकों में मेगा कैंप लगाया गया, जबकि 26 को केराकत व धर्मापुर ब्लाक में शिविर लगाया गया। इसमें समूह की महिलाओं को भी आमंत्रित किया गया था। सभी ने काफी इंतजार किया, लेकिन बैंकों की ओर से ऋण नहीं मिल सका। इतना ही नहीं उन्हें ऋण रद्द करने के कारणों के बारे में भी नहीं बताया गया, जिससे उन्हें निराशा हुई।
वहीं एलडीएम अनिल कुमार सिन्हा ने बताया कि समूह की महिलाओं को शासन की मंशा के अनुरूप ऋण मुहैया कराया जाएगा। इसका लाभ दिलाने के लिए एनआरएलएम के उपाध्यक्ष से भी सामंजस्य बिठाया जा रहा है। इसे लेकर जो भी व्यावहारिक समस्याएं आ रही हैं उसे दूर किया जाएगा।
Previous articleजौनपुर : किशोर समेत दो शातिर चोर गिरफ्तार, चोरी के गहने बरामद
Next articleजौनपुर : शिक्षक एंव कर्मचारियों ने किया जमकर धरना-प्रदर्शन
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏