जौनपुर : सेनापुर शहीद उद्यान के उद्घाटन शिलापट्ट पर गलत स्लोगन बना चर्चा का विषय

जौनपुर : सेनापुर शहीद उद्यान के उद्घाटन शिलापट्ट पर गलत स्लोगन बना चर्चा का विषय

# उप जिलाधिकारी को पत्रक देकर किया गया जल्द से जल्द सुधारने की अपील

केराकत।
विनोद कुमार
तहलका 24×7
          “शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले. वतन पर मरने वालों का यही बाकी निशां होगा” यह पंक्तियां शहीदों के श्रद्धांजलि के रूप में जानी जाती हैं जिसे जगदंबा प्रसाद मिश्र हितैषी जैसे महान लेखक ने शहीदों के लिए समर्पित किया था। केराकत क्षेत्र के सेनापुर ग्राम स्थित शहीद स्तंभ के गेट पर लगे उद्धघाटन शिलापट्ट पर इन्हीं पंक्तियों का त्रुटि पूर्वक लिखे जाना चर्चा का विषय है।

शहीद उद्यान पार्क का लोकार्पण 25 जनवरी को किया गया और लोकार्पण कार्यक्रम पर एक से बढ़कर एक वरिष्ठ अधिकारी व जनप्रतिनिधि पहुंचे थे पर किसी ने भी इस बात पर गौर नहीं फरमाया कि “यहीं बाकी निशा” के जगह “आखरी यही निशा होगा” आखिर इतनी बड़ी त्रुटि कैसे हुई? सेनापुर ग्राम निवासी विनोद कुमार ने उप जिलाधिकारी को प्रार्थनापत्र देकर त्रुटियों को सुधारने की अपील की है। जिस पर उपजिलाधिकारी ने खण्ड विकास अधिकारी को जल्द से जल्द कार्यवाही के लिए आदेशित किया है।
Feb 06, 2021

Previous articleजौनपुर : सिर मुड़ाने के प्रकरण में तीन लोगों को पुलिस ने लिया हिरासत में
Next articleजौनपुर : वेद प्रकाश बनाए गये पाक्सो एक्ट के विशेष लोक अभियोजक
तहलका24x7 की मुहिम..."सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏