39.1 C
Delhi
Saturday, June 15, 2024

ठाकुरों के विरोध की चिंगारी गुजरात से चली, पूर्वांचल में भड़की

ठाकुरों के विरोध की चिंगारी गुजरात से चली, पूर्वांचल में भड़की

जौनपुर संसदीय क्षेत्र के ठाकुर वोटर मौन, मछलीशहर सीट पर एनडीए गठबंधन के नेताओं के बयान पर उबाल

जिले की दोनों सीटों पर त्रिकोणीय संघर्ष की रफ्तार बढ़ी, अब जातीय वोटर बनते जा रहे जीत-हार के फैक्टर

जौनपुर सीट पर दो दलों के प्रत्याशी अपने ही संगठन में खींचतान के हैं शिकार

जौनपुर। 
कैलाश सिंह
तहलका 24×7 
              लोकसभा चुनाव में क्षत्रियों का विरोध व किसानों का आंदोलन एनडीए गठबंधन पर शुरुआत में ही भारी पड़ने लगा। ठाकुरों से टसन की चिंगारी गुजरात से चली और पश्चिमी यूपी में जब धधकी तो भाजपा हाईकमान के कान खड़े हुए, लेकिन तब तक दो फेज का चुनाव पार हो गया था। आग की आंच तब तक राजस्थान, हरियाणा, मध्य प्रदेश को लपेटे में लेकर पूर्वांचल में सुलगने लगी। इस बीच भाजपा के 400 पार के नारे पर संविधान बचाओ का नारा भारी पड़ चुका था। विपक्षी गठबंधन आरक्षण को भी मुद्दा बनाकर सीएम योगी आदित्यनाथ को हटाये जाने की हवा फैलानी शुरू कर दी।
भाजपा जाटों को सेट करने में लगी थी, तब विपक्षी दल ठाकुरों के विरोध की चिंगारी को हवा दे रहे थे। पुर्वी यूपी में जब भाजपा हाई कमान बृजभूषण शरण सिंह, राजा भैया, धनंजय सिंह को सेट किये तब तक उसके गठबंधन के सहयोगी अपना दल और राजभर की पार्टी के नेता ठाकुरों पर जहर उगलने लगे।जौनपुर की दोनों सीटों में मछली शहर के मडीयाहूं विधान सभा के जवनसी आदि दर्जनों गावों में राजभर की पार्टी के नेता के निहायत गन्दे वक्तव्य ने चिंगारी को जंगल में लगी आग बना दिया।
यहां के भाजपा प्रत्याशी द्वारा ठाकुर-ब्राह्मण युवकों पर दो साल पूर्व कराये गए एससी, एसटी के मुकदमे कोढ़ में खाज बने थे। तब तक राजभर नेता द्वारा सभा में ठाकुरों को दी गयी गाली ने जख्म को भयानक कैंसर का रूप दे दिया। यहां सपा, बसपा और भाजपा तीनों के प्रत्याशी एक ही जाति वर्ग से हैं। यहां लडाई पहले से त्रिकोणीय बनी हुई थी। अब स्थिति डांवाडोल होने लगी है। भाजपा के लिए उसके ही सहयोगी पार्टियों के नेता भस्मासुर बन गए हैं और एनडीए की यूपी में सीटों को ये 40 से नीचे समेटने में लगे हैं।
जौनपुर संसदीय सीट पर पार्टी द्वारा घोषित पैराशूट उम्मीदवार भाजपा के स्थानीय संगठन के ही गले नहीं उतरा। यही कारण है की टिकट घोषणा के बाद से अब तक चुनाव चढ़ा ही नहीं। प्रत्याशी का अपना दाग तो है ही, उपर से उसके सारथी कथित ‘रत्न’ भी अपना आभा मण्डल सांप के केंचुल की तरह ऐसा छोड़े हैं जिसमें वोटर तो दूर भाजपा के पदाधिकारी, कार्यकर्ताओं में भी आक्रोश का कारण बना है। ये रत्न कभी जिले में उसी तरह दलाल घोषित थे जैसे महाराष्ट्र कांग्रेस में रहते  इस प्रत्याशी की कुख्यात प्रबल थी।
उनके भाजपा में आने के बाद महाराष्ट्र का दाग रूपी भूत जौनपुर में नृत्य करने लगा है। उपर से इनके कथित रत्न ऐसा प्रोटोकाल बनाए हैं मानो ये प्रत्याशी की बजाय मन्त्री हो चुके हैं। यहां भी पूर्व सांसद धनंजय श्रीकला के चुनाव से हटने के बाद जिस फायदे की उम्मीद थी वह उल्टी पड़ गई। सपा प्रत्याशी जहां अदर बैकवर्ड वोट को साम-दाम से साधने में जुटा है और मुस्लिम को अपना फिक्स वोट मानकर चल रहा, लेकिन यह वोटर अभी नब्ज देख रहा है। वहीं बसपा उम्मीदवार को यादव होने का भरपूर फायदा मिल रहा है। दलित वोटर अपने दल में अंगद की तरह पांव जमाये है।

तहलका संवाद के लिए नीचे क्लिक करे ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓

Loading poll ...

Must Read

Tahalka24x7
Tahalka24x7
तहलका24x7 की मुहिम..."सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... ?

धार्मिक स्थलों से उतरवाए गए लाउड स्पीकर 

धार्मिक स्थलों से उतरवाए गए लाउड स्पीकर  खेतासराय, जौनपुर।  अजीम सिद्दीकी  तहलका 24x7                धार्मिक स्थलों पर...

More Articles Like This