थाने के मालखाने से 25 लाख की चोरी में गिरफ्तार सफाईकर्मी की पुलिस हिरासत में मौत

थाने के मालखाने से 25 लाख की चोरी में गिरफ्तार सफाईकर्मी की पुलिस हिरासत में मौत

# अखिलेश यादव ने कहा- सच छिपाने के लिए हुई हत्या

# प्रियंका गांधी बोलीं, किसी को पीट-पीटकर मार देना कहां का न्याय ?

लखनऊ/आगरा।
विजय आनंद वर्मा
तहलका 24×7
                   आगरा के जगदीशपुरा थाने से चोरी के मामले में पकड़े गए सफाईकर्मी की कल देर रात पुलिस हिरासत में मौत हो गई। बवाल की आशंका पर थाने पर बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया है। बताते चलें कि जगदीशपुरा थाने के अंदर मालखाने से शनिवार की रात दरवाजे तोड़कर 25 लाख रुपये चोरी कर लिए गए थे। इस मामले में इंस्पेक्टर अनूप कुमार तिवारी समेत छह पुलिसकर्मियों को लापरवाही बरतने में निलंबित कर दिया गया था।
“तहलका 24×7” पर 18 अक्तूबर को चली खबर
पुलिस ने अज्ञात चोरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की। सबसे पहले पुलिस ने थाने में आने वाले प्राइवेट कर्मचारियों की सूची तैयार की तो सामने आया कि प्राइवेट सफाईकर्मी अरुण दो दिन से थाने में नहीं आ रहा है। पुलिस टीम उसके घर पहुंची तो वह घर से गायब मिला। उसके घर से पुलिस को कुछ कैश भी मिल गया। मंगलवार को पुलिस ने सफाईकर्मी अरुण को ताजगंज क्षेत्र से पकड़ लिया। वह पुलिस से बचने के लिए सिर मुड़ाकर घूम रहा था। उससे पूछताछ के बाद पुलिस ने दस लाख रुपये से अधिक उसके घर से बरामद किए। देर रात पुलिस हिरासत में अरुण की हालत बिगड़ गई। पुलिस ने उसे लेकर अस्पताल गई, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।
एसएसपी: दोषियों पर कार्रवाई होगी
एसएसपी मुनिराज का कहना है कि सफाईकर्मी अरुण ने घटना कुबूल ली थी। रात में उसकी तबियत बिगड़ गई और उपचार के दौरान मौत हो गई। सफाईकर्मी अरुण की मौत की खबर वाल्‍मीकि समाज में आग की तरह फैल गई। शहर भर में वाल्‍मीकि समाज के लोग लामबंद हो रहे हैं। मृतक के परिजनों ने पुलिस कार्रवाई पर सवाल खड़े किए हैं।
सफाई कर्मचारी अरूण (फाइल फोटो)
सफाई कर्मचारी अरूण की मौत के बाद सपा मुखिया पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्विट कर लिखा है कि भाजपा सरकार में पुलिस खुद अपराध कर रही है तो अपराध कैसे रूकेगा। पहले सांठगांठ कर थाने के मालखाने से 25 लाख की चोरी कराई फिर सच छिपाने के लिए गिरफ्तार किए गए सफाईकर्मी की कस्टडी में हत्या स्तब्ध करती है। हत्यारे पुलिसकर्मियों पर हो सख्त कार्रवाई। उधर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी इस घटना पर ट्वीट कर लिखा है कि किसी को पीट-पीटकर मार देना कहां का न्याय है।

दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश स्थानीय निकाय कर्मचारी महासंघ ने कहा है कि वह आज वाल्मीकि जयंती को नहीं मनाएगा। वरिष्ठ उपाध्यक्ष विनोद इलाहाबादी ने मृतक सफाई कर्मचारी के स्वजन को एक करोड़ रुपए, एक नौकरी और दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। खबर लिखे जाने तक बड़ी संख्या में सफाई कर्मचारी एसएन मेडिकल कॉलेज पोस्टमार्टम गृह में पहुंच गए थे। एडीजी राजीव कृष्ण ने बताया कि सफाईकर्मी की मौत पर परिजनों की तहरीर पर अज्ञात पुलिसकर्मियों के विरुद्ध हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है। जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
Previous articleजौनपुर : टेम्पो की चपेट में आने से युवक घायल
Next articleजौनपुर : शोभा यात्रा में पूजनोत्सव समिति एंव पंडाल सजावट में महाकाल समिति रहे प्रथम
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏