दहशत : वाराणसी के ट्रांसपोर्टर से मांगी गई 50 लाख की रंगदारी

दहशत : वाराणसी के ट्रांसपोर्टर से मांगी गई 50 लाख की रंगदारी

# मुन्ना बजरंगी गैंग के वांटेड अपराधी के नाम से आई धमकी भरी कॉल

वाराणसी।
मनीष वर्मा
तहलका 24×7
               वाराणसी में एक ट्रांसपोर्टर से 50 लाख रुपये रंगदारी मांगने की सनसनीखेज घटना सामने आई है। मुन्ना बंजरंगी गिरोह का सदस्य और पिछले एक दशक से फरार चल रहे 50 हजार के इनामी बदमाश विश्वास नेपाली के नाम से ट्रांसपोर्टर से 50 लाख की रंगदारी मांगी गई है। पहले उसके कार्यालय में दो बदमाशों ने रंगदारी के लिए असलहा दिखाकर धमकाया फिर फोन पर तीन से चार बार विश्वास नेपाली के नाम से रंगदारी के लिए धमकी दी गई।
डरे और सहमे ट्रांसपोर्टर ने पुलिस उच्चधिकारियों से गुहार लगाई तो चेतगंज थाने की पुलिस ने मुक़दमा दर्ज करते हुए फोन कॉल को ट्रेस करना शुरू कर दिया है। ट्रांसपोर्टर के धूपचंडी स्थित कार्यालय पहुंचकर चेतगंज पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम ने सीसीटीवी फुटेज खंगालने सहित अन्य तफ्तीश में जुट गई है पुलिस ने ट्रांसपोर्टर को सुरक्षा भी मुहैया करा दी है।
शिवपुर थाना अंतर्गत तरना के रहने वाले एक शख्स की लंबे समय से ट्रांसपोर्ट का कारोबार चल रहा है। चेतगंज थाना के धूपचंडी इलाके में उनका ट्रांसपोर्ट कार्यालय है। ट्रांसपोर्टर के अनुसार बुधवार शाम कार्यालय में हेलमेट लगाए दो बदमाश घुसे और असलहा सामने रखते हुए 50 लाख की रंगदारी की मांग की।
यही नहीं, बदमाशों के जाने के बाद फोन आया और उधर से अपने को विश्वास नेपाली बताने वाले ने धमकी भरे लहजे में कहा कि 50 लाख रुपये दे दो, अन्यथा व्यापार करने लायक नहीं रहोगे। वाराणसी की जरायम जगत में दशक भर बाद अचानक कुख्यात 50 हजार इनामी विश्वास नेपाली का नाम सुनते ही ट्रांसपोर्टर के माथे से पसीना छूटने लगा।
फौरन पुलिस अधिकारियों से ट्रांसपोर्टर ने गुहार लगाई और सुरक्षा की मांग की। इस दौरान अधिकारियों के निर्देश पर चेतगंज थाने में रंगदारी समेत अन्य आरोपों में मुकदमा दर्ज किया गया। चेतगंज इंस्पेक्टर संध्या सिंह ने बताया कि ट्रांसपोर्टर की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर जांच की जा रही है।

# विश्वास नेपाली पर 30 से ज्यादा मुकदमे

वर्ष 2001 में वाराणसी के भेलूपुर थाना में विश्वास नेपाली के खिलाफ धमकाने के आरोप में पहला मुकदमा दर्ज हुआ था। 2001 में ही उसके खिलाफ रंगदारी मांगने के आरोप में कोतवाली थाने में मुकदमा दर्ज किया गया। इसके बाद कोतवाली थाने की पुलिस ने उसके खिलाफ गुंडा एक्ट और गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की। जेल से जमानत पर छूटने के बाद विश्वास नेपाली अनुराग त्रिपाठी उर्फ अन्नू त्रिपाठी और मुन्ना बजरंगी से जुड़ गया। नेपाली के खिलाफ लूट, हत्या, अपहरण और रंगदारी मांगने के आरोप में 30 से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं।
Previous articleस्कॉर्पियो सवार बैंक मैनेजर की गोली मारकर हत्या, 41 लाख रुपये लूटकर भागे बदमाश
Next articleचैन स्नैचिंग रोकने में वाराणसी पुलिस नाकाम, 24 घंटे में हुई तीन वारदात
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏