नव वर्ष पर शिवमंगल सिंह ‘सुमन’ की चन्द अनमोल पंक्तियॉ…

नव वर्ष पर शिवमंगल सिंह ‘सुमन’ की चन्द अनमोल पंक्तियॉ…

जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला,
उस-उस राही को धन्यवाद
जीवन अस्थिर अनजाने ही,
हो जाता पथ पर मेल कहीं,
सीमित पग डग, लम्बी मंज़िल,
तय कर लेना कुछ खेल नहीं
दाएँ-बाएँ सुख-दुख चलते,
सम्मुख चलता पथ का प्रमाद
जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला,
उस-उस राही को धन्यवाद
साँसों पर अवलम्बित काया,
जब चलते-चलते चूर हुई,
दो स्नेह-शब्द मिल गये,
मिली नव स्फूर्ति, थकावट दूर हुई
पथ के पहचाने छूट गये,
पर साथ-साथ चल रही याद
जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला,
उस-उस राही को धन्यवाद…🙏🙏

Earn Money Online

Previous articleजौनपुर : दो बेशकीमती भैंस पिकअप पर लाद ले गए पशु चोर
Next articleजौनपुर : एसडीएम की कार्य प्रणाली से क्षुब्ध अधिवक्ताओं ने किया हंगामा
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏