नहीं रहे यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह

नहीं रहे यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह

# राज्य में तीन दिन का राजकीय शोक, अंतिम संस्कार सोमवार को

लखनऊ।
विजय आनंद वर्मा
तहलका 24×7
                उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह का शनिवार को लखनऊ के संजय गांधी पोस्टग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एसजीपीजीआई) में निधन हो गया। वो बीते चार जुलाई से अस्पताल में भर्ती थे। डॉक्टरों ने बताया क सेप्सिस और मल्टी ऑर्गन फेल्योर के कारण उनका निधन हुआ है। वह 89 वर्ष के थे।पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह का अंतिम संस्कार 23 अगस्त को शाम नरौरा में गंगा नदी के तट पर किया जाएगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कल्याण सिंह के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए प्रदेश में तीन दिन के राजकीय शोक और 23 अगस्त को सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की है। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को ही अपना गोरखपुर दौरा रद्द करके उनका हालचाल लेने अस्पताल पहुंचे थे। अस्पताल ने बताया कि उन्हें क्रिटिकल केयर आईसीयू में रखा गया था। संस्थान के क्रिटिकल केयर, न्यूरोलॉजी, यूरोलॉजी, नेफ्रोलॉजी, इंडोक्राइनोलॉजी सहित विभिन्न विभागों के प्रोफेसरों की टीम उनके इलाज में लगी हुई थी। वह कई दिनों से वेंटिलेटर पर थे।एसजीपीजीआई में पत्रकारों से बातचीत में मुख्यमंत्री ने बताया कि कल्याण की पार्थिव देह को रविवार को अलीगढ़ लेकर जाया जाएगा।

अलीगढ़ स्टेडियम में उनकी पार्थिव देह को अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा। 23 अगस्त को उनकी देह को अतरौली में लेकर जाएंगे, वहां उनके समर्थक और आम जन अंतिम दर्शन कर पुष्पाजंलि अर्पित करेंगे। 23 अगस्त की शाम नरौरा में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिक से अधिक लोग उनके अंतिम संस्कार में शामिल हो सकें इसलिए 23 अगस्त को सार्वजनिक अवकाश घोषित किया है। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री ने यूपी के विकास को जो सपना देखा था उसे अवश्य पूरा करेंगे। मुख्यमंत्री ने उनकी आत्मा शांति की प्रार्थना करते हुए शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की है।

# कल्याण सिंह का निधन राष्ट्र के लिए अपूर्णीय क्षति- योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के निधन पर शोक जताते हुए इसे राष्ट्र के लिए अपूर्णीय क्षति बताया है। उन्होंने कहा कि भारतीय राजनीति में शुचिता, पारदर्शिता व जनसेवा के पर्याय, अप्रतिम संगठनकर्ता और मुख्यमंत्री के रूप में उनकी सेवाओं को सदैव याद किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कल्याण सिंह एक वरिष्ठ एवं अनुभवी राजनेता थे।
अयोध्या में श्रीराम मंदिर आंदोलन में उनकी भूमिका अग्रणी थी और श्रीराम मंदिर निर्माण को लेकर उनका अटूट विश्वास था। मुख्यमंत्री ने कहा कि कल्याण सिंह ने समाज के गरीब, कमजोर, शोषित और वंचित वर्ग के लिए जीवन पर्यंत संघर्ष किया। उन्होंने कहा कि राजनीतिज्ञ के रूप में उनकी उपलब्धियां सभी के लिए प्रेरणादायी है। कल्याण सिंह के निधन से भारतीय राजनीति में कमी को न भरा जा सकने वाला बड़ा शून्य पैदा हो गया है।
Previous articleमां से ईडी ने की 3 घंटे पूछताछ की तो भड़कीं महबूबा मुफ्ती
Next articleतीन सगे भाइयों के घर पर चस्पा मिला लाल सलाम लिखा पत्र
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏