पत्रकार वही, जो निडर और साहसी होता है- प्रो निर्मला एस.मौर्य

पत्रकार वही, जो निडर और साहसी होता है- प्रो निर्मला एस.मौर्य

# पत्रकार वही जो बिना किसी भेदभाव के अपनी जिम्मेदारियों का करे निर्वहन- मनीष वर्मा

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
                जौनपुर प्रेस क्लब के तत्वावधान में आयोजित संगोष्ठी एवं सम्मान समारोह की अध्यक्षता करते हुए पूर्वांचल विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो निर्मला एस.मौर्य ने कहा कि भगवन नारद के नाम नारदीय पत्रकारिता होती है। नारद जी के शिखा पर फूल होता था लोग उसे एन्टीना मानते रहे। ऐसा विज्ञान ने सोचा होगा आज उसी से पत्रकारिता आगे बढ़ी है। पत्रकार वही है जो निडर हो साहसी हो जहां उनकी आवश्यकता हो वहीं पर जाये। हम भी कार्य करते है और आप भी कार्य करते है। आज पत्रकारिता मिशन के साथ साथ व्यवसाय भी हो गया है और जरूरी भी है कि बिना रोटी रोजी के पत्रकारिता नहीं हो सकती है उन्होंने मुहावरा जोड़ा भूखे भजन न होइहै गोपाला। साथ में बताया कि प्रचीन काल में पत्रकारिता मिशन थी आज व्यवसाय हो चुकी है। आज पत्रकारिता लक्ष्य से भटक गयी है यह अत्यंत ही चिन्ता का विषय है। पीत पत्रकारिता से बचने की सलाह देते हुए पत्रकार समाज से अपील किया कि इमानदारी के साथ पत्रकारिता करें।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रदेश सरकार के आवास एवं शहरी नियोजन राज्यमंत्री गिरीश चन्द्र यादव ने कहा कि आज जैसी संगोष्ठी जौनपुर प्रेस क्लब ने कराया है ऐसी संगोष्ठी सेमिनार आयोजित किये जाने चाहिए इससे पत्रकार समाज को नयी दिशा मिलने के साथ ही उनका ज्ञान वर्धन भी होता रहेगा। श्री यादव ने कहा कि पत्रकार साथी पूरी निष्ठा और इमानदारी के साथ अपने कार्य को बिना किसी भेद भाव के करे अगर कहीं कोई समस्या आती है तो हमें बताये हम पत्रकार साथियों के साथ नजर आयेगे। श्री यादव ने एक बात यह भी कहा पत्रकार समाज का दर्पण है उसे पूर्वाग्रह से पत्रकारिता नहीं करनी चाहिए।

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा ने कहा कि पत्रकार समाज का आईना होता है वह हर छोटे बड़े लोग उसके जानने वाले होते है। सरकार द्वारा संचालित योजनाओ में कहां कमी होती है उसकी जानकारी मीडिया के जरिये आसानी से होती है और हम उसका निराकरण कराते है। पत्रकार इमानदारी से अपनी पत्रकारिता करे। बिना वायस्ड हुए सही खबरों को छापे, जहां भी कमियां हो बताये प्रशासन उसे जरूर गम्भीरता से लेता है। पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर पत्रकारिता करने से पत्रकारों की गरिमा पर ठेस पहुंचती है। कभी कभी हम लोग तथाकथित पत्रकारों के खिलाफ कार्रवाई भी करना पड़ता है। देश की तरक्की के लिए हर नागरिक को अपने दायित्वों का इमानदारी से पालन करना चाहिए।

मुख्य वक्ता के रूप में कार्यक्रम में भाग लेने वाले पूर्वांचल विश्वविद्यालय जन संचार विभाग के हेड डॉ मनोज मिश्रा एवं डॉ पीसी विश्वकर्मा ने संगोष्ठी के विषय हिन्दी में पत्रकारिता का वर्तमान स्वरूप पर अपने व्याख्यान देते हुए कहा कि विषय बड़ा और समय कम है। लेकिन आज की पत्रकारिता पर सोशल मीडिया पूरी तरह से हाबी हो गयी है। वक्ता द्वय ने भी अपने संबोधन में पत्रकारो से पीत पत्रकारिता से बचने की सलाह दिया और कहा कि समाज हित के लिए पत्रकार को इमानदारी के साथ अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करना चाहिए।

इस दौरान पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष राजबहादुर यादव, टीडी कालेज के प्रबंधक राघवेंद्र प्रताप सिंह आदि ने अपने विचारो को व्यक्त किया। इस अवसर पर कोरोना संक्रमण काल में जनपद वासियों की सेवा करने वाले 14 लोंगो को कुलपति एवं जिलाधिकारी के द्वारा स्मृति चिन्ह और शाल देकर सम्मानित किया गया। अतिथियों का स्वागत जौनपुर प्रेस क्लब के जिलाध्यक्ष कपिल देव मौर्य ने किया। जनपद के कोने कोन से आये प्रेस क्लब के पत्रकारो ने अतिथियों को माल्यार्पण कर जबरदस्त स्वागत किया। कार्यक्रम में मुख्य रूप जौनपुर प्रेस क्लब के महामंत्री शम्भुनाथ सिंह, वरिष्ठ उपाध्यक्ष राकेश कान्त पान्डेय, उपाध्यक्ष फूलचंद यादव, जुबेर अहमद, ई अजय पाल, सुनील वर्मा, शशिकान्त मौर्य, आशीष पान्डेय, दीपक सिंह रिंकू, अंकित सिंह, अवधेश तिवारी, लल्लन मौर्य, मेंहदी हसन सहित सभी तहसील अध्यक्ष जनों का सहयोग रहा। पूरे कार्यक्रम का सफल संचालन तहसील केराकत के अध्यक्ष अब्दुल हक अंसारी ने पूरे जोश के साथ किया।

Earn Money Online

Previous articleजौनपुर : विवादित भूमि पर रामलीला मंच बनाने को लेकर दो पक्षों में विवाद
Next articleजौनपुर : सरकार व शिक्षकों की मेहनत का परिणाम विद्यालयों में दिख रहा है- हरेंद्र सिंह
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏