पीयू के अब तक घोषित परीक्षाफल में औसतन 95 फीसदी छात्र उत्तीर्ण- कुलपति

पीयू के अब तक घोषित परीक्षाफल में औसतन 95 फीसदी छात्र उत्तीर्ण- कुलपति

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
              वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय ने परीक्षा में उत्तीर्ण होने वाले छात्रों को बधाई दी तथा अनुत्तीर्ण छात्रों को निराश न होने के लिए कहा। वहीं सूचित किया कि विश्वविद्यालय शीघ्र ही उन सभी विद्यार्थियों के लिए एक मौका देने जा रहा है जो विद्यार्थी श्रेणीसुधार करना चाहते हैं अथवा बैक पेपर देना चाहते हैं उन्हें यह मौका सभी प्रश्न पत्रों के लिए दिया जाएगा।विश्वविद्यालय का एक ही ध्येय है कि सभी विद्यार्थी समय पर अपनी परीक्षाओं का फार्म भरते हुए अच्छे अंको से उत्तीर्ण हों और वह किसी भी प्रकार के भ्रम की स्थिति में ना रहें। उनका एक ही उद्देश्य होना चाहिए कि वह समय के अनुसार परीक्षा फार्म भरते हुए परीक्षाएं दें और जीवन में आगे बढ़ने का एक लक्ष्य निर्धारित करें।

लगातार यह देखने में आ रहा है कि अनेकों बार परीक्षा की वेबसाइट खोलने के बावजूद विद्यार्थी समय पर परीक्षा फॉर्म नहीं भरते हैं और लगातार महाविद्यालयों की शह पर विश्वविद्यालय के चक्कर लगाते रहते हैं जबकि उनकी समस्याओं का निदान महाविद्यालयों का उत्तरदायित्व है। कुछ विद्यार्थियों के परीक्षाफार्म गलत भरने से परीक्षाफल में त्रुटि के निस्तारण के लिए हुई अधीनस्थों संग बैठक छात्र हितों को ध्यान में रखकर किया गया। उन्होंने कहा कि विद्यार्थी परीक्षा परिणामों को लेकर किसी के बहकावे में ना आवें। कुछ विद्यार्थी अपने रोल नंबर और प्रश्नपत्र चयन का भी ध्यान नहीं देते कि फार्म में क्या भरा गया है? इसकी वजह से परीक्षाफल का सॉफ्टवेयर मिस मैच करता है और परीक्षाफल आईएनसी (अपूर्ण) दर्शाता है।

उन्होंने छात्रों को भविष्य में ऐसी गलती न करने की हिदायत दी है। विश्वविद्यालय विद्यार्थियों के परीक्षाफल को लेकर गंभीर हैं।उन्होंने कहा कि छात्रों से वार्ता के दौरान छात्रों के मांगपत्र पर कार्रवाई कर रिजल्ट का पुनर्परीक्षण किया जा रहा है। उनकी जायज मांगे मान ली गई है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय में इस वर्ष नई कोडिंग डिकोडिंग व्यवस्था लागू करने के कारण परीक्षाफल पूर्णतया पारदर्शी हुआ है। परिसर के कुछ सहयोगी भ्रम की स्थिति पैदा करने के लिए समाचारपत्रों में गलत सूचनाएं देकर गुमराह कर रहे हैं।
Previous articleजौनपुर : व्यवस्था वही अच्छी होती है जो कम से कम शासन करे- प्रो. त्रिलोचन शर्मा
Next articleजौनपुर : पं. दीनदयाल उपाध्याय की 105वीं जयंती पर भाजपाइयों ने प्रज्वलित किया 105 दीपक
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏