प्रशासन की लापरवाही से हुआ पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट, दो बच्चे समेत पांच लोग झुलसे

प्रशासन की लापरवाही से हुआ पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट, दो बच्चे समेत पांच लोग झुलसे

# तहलका 24×7 ने गत 28 अक्टूबर को ही प्रशासन को किया था आगाह

# “घनी आबादी में पटाखों की दुकानें दे रही है अप्रिय घटना को दावत” छपी थी खबर

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
                 प्रशासन की लापरवाही एंव जिम्मेदारों की रहस्यमयी चुप्पी एक अप्रिय घटना का कारक बनी। “तहलका 24×7” ने गत 28 अक्टूबर को ही “घनी आबादी में पटाखों की दुकानें दे रही है अप्रिय घटना को दावत” खबर प्रमुखता से प्रकाशित कर शासन-प्रशासन को आगाह किया था लेकिन जिम्मेदारों की कुम्भकर्णी निद्रा किसी घटना के इंतजार में थी।

बताते चलें कि मड़ियाहूं कोतवाली क्षेत्र के भंडरिया टोला पाही में शनिवार शाम पटाखा बनाते समय बड़ा हादसा हो गया। मकान में विस्फोट होने के कारण दो बच्चे समेत पांच लोग झुलस गए। जिन्हें जिला अस्पताल रेफर किया गया है। झुलसे लोगों में एक की हालत नाजुक बताई जा रही है। पटाखा विस्फोट के कारण मोहल्ले में अफरा-तफरी मच गई। हादसे की सूचना मिलते ही पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे और राहत बचाव कार्य में जुट गये। वहीं इस मामले में अग्निशमन अधिकारी कमलेश सिंह ने बताया कि मड़ियाहूं इलाके में एक भी लोगों को पटाखा बेचने का अस्थाई लाइसेंस तक जारी नहीं किया गया है।
             28 अक्टूबर को प्रमुखता से छपी “तहलका 24×7” की खबर
आए दिन पटाखा फैक्ट्री में हो रहे विस्फोट के बावजूद घनी आबादी के बीच पटाखा बनाए जाने का कार्य किसके शह पर चल रहा है यह जांच का विषय है। पूर्व में भी इस तरह की घटनाएं उक्त थाना क्षेत्र में हो चुकी हैं। बावजूद इसके अधिकारी लापरवाह बने हुए हैं जिसके कारण यह हादसा हुआ। इसी आशंका के चलते तहलका 24×7 ने शासन-प्रशासन के ध्यानाकर्षण के लिए “घनी आबादी में पटाखों की दुकानें दे रही है अप्रिय घटना को दावत” खबर प्रकाशित की थी लेकिन प्रशासन की तन्द्रा की अनहोनी के इंतजार में थी। प्रशासन अब भी चेता तो दीपावली तक कोई बड़े हादसे की संभावना से इंकार नहीं कह सकता है।

Earn Money Online

Previous articleजौनपुर : विशाल बने जेसीआई शाहगंज संस्कार के अध्यक्ष, जीशान को सचिव की जिम्मेदारी
Next articleजौनपुर : प्रसपा की सामाजिक परिवर्तन रथयात्रा की रणनीति बैठक सम्पन्न
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏